भाभी की रसीली बुर चोदने के चक्कर में मैं भैया से पिट गया

loading...

हेल्लो दोस्तों, मैं नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम का बहुत बड़ा प्रशंशक हूँ। मेरा नाम बिट्टू झा है। कुछ सालों पहले मेरे एक दोस्त ने मुझे इस वेबसाइट के बारे में बताया था, तब से मैं रोज यहाँ की मस्त मस्त कहानियां पढता हूँ और मजे लेता हूँ। मैं अपने दूसरे दोस्तों को भी इसे पढने को कहता हूँ। पर दोस्तों, आज मैं नॉन वेज स्टोरी पर स्टोरी पढ़ने नही, स्टोरी सुनाने हाजिर हुआ हूँ। आशा करता हूँ की यह कहानी सभी पाठकों को जरुर पसंद आएगी। ये मेरी सच्ची कहानी है।

loading...

मेरी कहानी जानने से पहले आप को मेरे बारे में जानना जरुरी है। मै आप को बता दूँ, मेरे पापा दो भाई है, और मेरे बड़े पापा के दो बेटे है। मै अपने पापा का इकलौता बेटा हूँ। मेरे बड़े पापा के बड़े बेटे की शादी हो चुकी है। शादी को दो साल हो गया है और अभी तक भैया और भाभी ने बच्चा नही किया था। मेरी भाभी के बारे में बात करे तो, उनकी 24 वर्ष होंगी। मेरा और मेरे भाभी का कद काफी मिलता जुलता था। भाभी तो किसी हेरोइन से कम नही है। आंखे बड़ी बड़ी और गोल गोल बिल्कुल दिव्या भारती की तरह। उनके लाल लाल होठो की बात ही ना करो, उनके होठ लाल २ हलके से मोटे, बिल्कुल मलाई की तरह मुलायम थे। उनके मम्मों का तो जवाब नही क्या मम्मे है। गोरे गोर मैदे की तरह, संतरे की तरह गोल गोल और हवा भरे हुए गुब्बरे की तरह मुलायम। उनको दबाने का मजा ही अलग होगा। और उनकी चूत तो रबड़ी की तरह रसीली और बहुत मस्त थी।

loading...

मेरा और मेरे बड़े पापा का घर अगल बगल में ही था। एक महीने पहले की बात है गर्मी की छुट्टी चल थी, मेरे कॉलेज में छुट्टी चल रही थी। मै दोपहर के समय टाइम पास करने के लिए अपने बड़े पापा के घर चला जाता था। बड़े पापा ज्यादातर घर से बाहर ही रहते थे और भैया [अमन] तो सुबह ही अपनी सरकारी नौकरी की ड्यूटी करने चले जाते थे। अब उनके घर में बड़ी मम्मी बचती और सुमित [अमन का छोटा भाई ] बचता। बड़ी मम्मी तो हमेशा बाहर बरामदे में ही रहती थी। मै रोज दोपहर में भाभी के कमरे में जाता और भाभी के कमरे में बेड पर लेट कर टीवी देखता और भाभी से मज़े लेते हुए उनसे खूब बातें करता। भाभी दिल की बहुत अच्छी थी और साथ साथ बहुत मजाकिया भी थी।

मै एक दिन भाभी के कमरे में लेटे हुए मूवी देख रहा था। भाभी ने मुझसे कहा – क्या देवर जी क्या देख रहें हो इतनी ध्यान से टीवी में?

मैंने कहा – “कुछ नही बस थोड़ी सी मस्त सीन चल रहा है वही देख रहा हूँ”। भाभी ने मुस्कुराते हुए कहा – “जब शादी हो जायेगी तो ये सब देखने से काम नही चलेगा करना भी पड़ेगा”। मैंने भी बिना शर्माए हुए बोल दिया – “वो तो करना आता है। मुझे जब शादी होगी तो किसी तरह से कर ही लूँगा। और अगर नही आयेगा तो आप सिखा देना”। भाभी ने हस्ते हुए कहा – “मै क्यों तुम्हे सिखाऊँगी” मै तुम्हारी बीवी थोड़ी ना हूँ। मैंने कहा – भाभी तो हैं।

जब मै भाभी से ये सब बातें कर रहा था मेरा लंड तो बेकाबू हो रहा था और एकदम से तना हुआ था। मै रोज भाभी के पास आता, और उनसे खूब मजाक करता। धीरे धीरे मजाक इतना आगे बढ़ गया था की अब तो सारी बातें मै बिना शरमाये हुए कह देता था और भाभी भी मुझसे बिना शरमाये कुछ भी ही कह देती थी।

एक दिन मै भाभी के कमरे में बैठ था। भाभी भी पास में ही बेड पर लेटी हुई थी। बातों ही बातों में भाभी ने पूछा – कोई गर्लफ्रेंड बनायी की वैसे ही काम चला रहें हो? मैंने उनसे कहा – “पहले आप मेरे एक सवाल का उत्तर दीजिए तो मै भी आप के सवाल का उत्तर दूँगा”

भाभी ने कहा पूछा क्या – मैंने भाभी से पूछा की शादी से पहले आप का कोई बोयफ़्रेंड था क्या??

भाभी कुछ देर कुछ ना बोली। फिर उन्होंने कहा किसी को बताना मत मै ये केवल तुम्हे बता रही हूँ। हाँ जब मै इंटर में थी तो एक लड़का मुझे बहुत लाइक करता था और मै भी उसे बहुत लाइक करती थी। मैंने फिर पूछा – “आप लोगो के बीच कुछ हुआ था कि नही”। भाभी मुस्कुराते हुए बोली हाँ एक बार मै मैंने स्कूल बंक करके उसके दोस्त के रूम पर गई थी और हम लोगो ने किस के साथ 2 सेक्स भी किया था। मेरा लंड खड़ा हो गया था, ये सब बाते करके भाभी से।  भाभी ने कहा – “किसी से भी ये बात कभी मत कहना मैंने तुम से बता दिया है” मैंने भी भाभी को अपने बारे में सब बता दिया – मेरी एक गर्लफ्रेंड है, और हम लोग भी बहुत बार चुदाई कर चुके है। मैंने कभी भी भाभी को गलत नजरो से नही देखा था। बस केवल मै उनसे एक दोस्त कि तरह से बातें करता था। दोस्तों कुछ ही दिन पहले की बात है भैया को 15 दिनों के लिए मुंबई जाना था अपनी नौकरी के सिलसिले में। भैया मुंबई चले गये, तो भाभी अकेली हो गयी। उनकी कुछ दिनों से चुदाई भी नही हुई थी।

एक दिन मै दोपहर के समय भाभी के कमरे में आया, भाभी अपने कमर में मैक्सी पहने हुए लेटी हुई थी। और टीवी देखने में बिजी थी मैंने चुपके से पीछे से उनकी आँखों को पकड लिया। भाभी ने मेरे हाथो को सहलाते हुए पकड़ा, लेकिन वो पहचान नही पाई। भाभी के आँखों को पकड़ते समय मेरा हाथ भाभी के मम्मो में छु गया। भाभी की कई दिनों से चुदाई नही हुई थी, इसलिए मेरा हाथ उनकी चूची में छूते ही उनकी सांसे बढ़ने लगी थी। मैंने अपना हाथ उनके मम्मो पर जल्दी से हटा लिया। मेरा भी लड़ खड़ा हो गया था। मै भाभी के बगल में ही बैठ गया।

दोस्तों, मैंने अपनी तरफ से कुछ भी नही किया भाभी को चोदने के लिये। भाभी ही अपनी चुदाई करवाने के चक्कर में थी। मै भाभी के बगल मे बैठा हुआ था, भाभी की मैक्सी बहुत हल्की थी। उनके बूब्स की छाप उनकी मैक्सी पर दिख रहा था। मै ये सब देख कर कामातुर हो रहा था। मेरा भी मन किसी को चोदने को कर रहा था। लेकिन मुझे क्या पता था कि मै अपने भाभी को ही चोदने वाला हूँ।

थोड़ी देर बाद भाभी ने अपने हाथ को अंगडाई लेने के बहाने से मेरे जांघ पर रख दिया। मेरा लंड खड़ा था, मै अपने लंड को दबाने लगा था। भाभी ने अपने हाथ को मेरी जांघ से नही हटाया और अपनी उंगलियों को हिलाने लगी, जिससे उनकी उँगलियाँ मेरे जांघ में छू रही थी। मेरा तो लंड और भी टाईट होता जा रहा था। कुछ देर बाद भाभी ने अपने हाथ को हल्का सा आगे बढ़ाया और अपने हाथ को मेरे नुन्नू तक पंहुचा दिया। मुझे पता चल गया था कि आज भाभी का चुदने का फुल मूड है। मैंने भाभी के हाथ को अपने लंड से दूर कर दिया और कहा – आप क्या कर रही है??

भाभी ने बड़े जोश से कहा – बिट्टू तुम्हारे भैया इतने दिनों से बाहर है, जब वो थे तो मेरी रोज चुदाई करते थे। लेकिन बहुत दिनों से मेरी चुदाई नही हुई है और तुम्हारा हाथ मेरी चूची पर लगने से मेरा मन चुदने को कहने लगा। क्या तुम मुझे आज चोद सकते हो बिट्टू??

मैंने भाभी से कहा – “कहीं ये बात किसी को पता चल गयी तो??”  भाभी ने मुझसे कहा – ‘किसी को पता नही चलेगा”।

मेरा भी मन चुदाई करने को कह रहा था क्योकि मैंने बहुत दिनों से किसी की बुर नही चोदी थी। भाभी ने अपने कमरे का दरवाज़ा बंद कर दिया। और मेरे पास आई, मैंने उनके हाथो को पकड़ा और उनके हाथो को कुत्ते की तरह चाटते हुए,  उनकी गर्दन की तरफ बढ़ने लगा। मै जैसे जैसे भाभी की गर्दन की ओर बढ़ने लगा भाभी बहकने लगी। मैंने उनके गर्दन को पीना शुरू किया, मेरे गर्दन पीने से भाभी तो मचल रही थी उनको बहुत मजा आ रहा था। मै उनकी गर्दन को पीते हुए अपने हाथो से भाभी के मुसम्मी की तरह गोल, रसीले और संगमरमर की तरह चिकने मम्मो को भाभी के मैक्सी के ऊपर से ही दबाने लगा। भाभी का तो पूरा शरीर जोश से गरम हो गया था।

मैंने भाभी के गले को पीना बंद कर दिया और उनकी होठो को पीने लगा। भाभी का भी जोश बढ़ने लगा, उन्होंने भी मुझे अपने बाँहों में भरते हुए मेरे होठो को चूसने लगी। मेरा भी जोश बहुत बढ़ रहा था मै अपने आप को सम्हाल नही पा रहा था। मैंने भाभी के मुह में अपना जीभ डाल कर उन्हें किस करने लगा। भाभी तो मेरे निचले होठो को बड़ी मस्ती से पी रही थी। 20 मिनट तक बिना रुके किस करने के बाद मैंने भाभी की मैक्सी को निकल दिया और उनको बेड पर लिटा दिया। उनका शरीर तो जैसे मैदे का बना हो, इतना गोरा था। भाभी की मैक्सी उतारने के बाद वो केवल ब्रा और पैंटी में थी। मैंने उनके पैरों की उंगलियों को चूसना शुरू किया, मै बड़े प्यार से भाभी के पैरों की उंगलियों को चूसते हुए उनके घुटने के ओर बढ़ने लगा। भाभी के बदन की खुशबू मेरे जोश को और भी बढ़ा रही थी। भाभी तो कामोत्तेजना से उनका शरीर तो ऐंठता जा रहा था। मै भाभी के घुटने को पीते हुए उनकी चिकनी, कोमल, और गुलगुले जांघों को पीने लगा। भाभी को बहुत मजा आ रहा था।

मैंने भाभी की चूत को सहलाते हुए उनकी नाभि को भी पीने लगा और अंत में मैंने भाभी की ब्रा को निकाल दिया और उनके मम्मो को पीने का सुख लेने लगा। मैंने अपने हाथो को भाभी के गोल, रसीले और मुलायम मम्मो को मसलते हुए पीने लगा। और भाभी अहह……. अहह..आ आ आ….. ओह ओह …..हा हा…. करके सिसकने लगी। मैंने उनकी चूची की अपने दांतों से काट के पी रहा था और भाभी मेरी इस हरकत से तनमना उठती ।

मै लगातार उनकी मम्मो को दबाते हुए उनकी बूब्स को पी रहा था। थोड़ी देर बाद मैंने भाभी की पैंटी को खीचने लगा, खीचने के बाद जब मै पैंटी को छोड़ता तो भाभी की कमर और उनकी चूत से चट चट की आवाज़ आती। मैं उनकी पैंटी को निकल कर सूंघने लगा, उनकी चूत की खुशबू पैंटी से मेरे नाक में जा रही थी। भाभी की बुर तो बहुत सुंदर और साफ थी।

मैंने भाभी से कहा – “आप की चूत तो बहुत साफ है”  भाभी ने कहा मै रोज अपनी झांटों को साफ करती हूँ इसलिए ये साफ है। मैंने पहले उनकी चूत पर अपने हाथो से सहलाने लगा और कुछ देर बाद मैंने अपने जीभ से उनकी चूत को चाटने लगा। भाभी भी सहल उठी थी जब मैंने उनकी चूत को चूसना शुरू किया। मै भाभी की मलाई की तरह मुलायम और नाजुक बुर को अपनी मोटी और हल्की खुरदरी जीभ से मस्ती से चाट रहा था। मै उनकी चूत को पीते पीते उनके मम्मो को भी मसल रहा था। जब मेरी जीभ भाभी की चूत में घुस जाती, तो भाभी अपने गांड को हल्का सा उठा देती। भाभी बहुत मजे के साथ अपनी चूत को मुझसे चटवा रही थी।

उनकी चूत को चाटने के बाद मैंने अपना 9 इंच का बड़ा सा और बैगन की तरह मोटे लंड को भाभी के चूत पर सहलाने लगा। मैंने पहले अपने लंड को थोड़ी देर तक भाभी के चूत पर रगड़ता रहा और कुछ देर बाद मैंने जानवरों की तरह जोर लगा के अपने लंड को भाभी की नाजुक सी चूत में घुसा दिया। मेरे लंड के घुसने से भाभी के चूत का रास्ता बड़ा हो गया और वो तेजी से आंहे भरने लगी। मैं उनकी चूत को बड़ी मस्ती से चोदने लगा और भाभी का इस चुदाई से बुरा हल था, मै जितनी तेज उनी चूत बजाता वो अपने चूत को मसलते हुए…“आआआआअह्हह्हह….ईईईईईईई…ओह्ह्ह्हह्ह…अई..अई..अई….अई..”

मेरा लंड भाभी की बुर में लगातार अंदर बाहर हो रहा था और भाभी भी आंहे भरते हुए अपनी चुदाई का मजा ले रही थी। मै बहुत तेजी से भाभी की चूत मार रहा था। मेरी स्पीड बढती ही जा रही थी। लगातार मेरा कड़ा लंड भाभी की नरम सी चूत को फाड़ते हुए उनकी चूत में घुस रहा था और भाभी अपने मम्मो को एक हाथ से मसल रही थी और दूसरे हाथ से अपनी चूत के दाने को रगड़ रही थी और …….अहह …ई ई ई ई ई…….उफ़ उफ़ उफ़……. उई माँ उई माँ………….करके चीख रही थी। भाभी को भी बहुत मजा आ रहा था। अब वो अपनी कमर को उठा कर मुझसे चुदवाने लगी।

बहुत देर बहुत तक उनकी चूत मारने के बाद मैंने अपने लंड को भाभी की फुद्दी से बाहर निकल लिया क्योकि अब मै ज्यादा देर तक टिकने वाला नही था। मैंने अपने लंड को भाभी के दोनों मम्मो के बीच में रखकर उनकी चूची को दबाकर, मै उनकी चूची को पेलने लगा। मैं अपना पूरा जोर लगाकर भाभी की बूब्स के बीच मे चोद रहा था। थोड़ी ही देर में मेरा माल निकलने वाला था, इसलिए मेरी स्पीड और भी तेज हो गयी। और कुछ ही देर बाद मेरा माल निकलने लगा, मेरी आँखों के सामने अँधेरा सा छा गया जब मेरा माल निकला। भाभी की चुदाई पूरी होने बाद भी मैंने बहुत देर तक भाभी के चूत को पीता रहा। चुदाई खत्म होने के बाद मैंने भाभी से पूछा – “आज के बाद भी क्या कभी चुदाई करने का मौका मिलेगा मुझे”

भाभी ने जवाब दिया – “जब तक भैया नही है तब तक तुम रोज दोपहर में आना और मेरी जमकर चुदाई करना”

मै हर रोज दोपहर में भाभी के कमरे में उनकी खूब चूत बजाता। जितने दिन भैया नही थे मैंने उतने दिनों तक लगातार भाभी की चूत को चोदा। कुछ दिनों में भैया आ गये, अब मुझे भाभी को चोदने का मौका नही मिल रहा था। एक दिन घर में कोई नही था मैंने भाभी से चूत देने को कहा, भाभी मना कर रही थी मैंने किसी तरह से उनको मना लिया और उनके कमरे में उनकी चुदाई करने लगा। चुदाई के बीच में ना जाने कहाँ से भैया आ गये, मुझे और भाभी को उन्होने रंगे हाथो पकड लिया। पहले तो भैया ने अपने कमरे में मेरी खूब पेलाई की और फिर भाभी को भी खूब पेला। उन्होंने मुझसे कहा फिर दोबारा मेरे घर में मत आना। मै फिर दोबारा उनके घर नही गया और ना ही फिर कभी भाभी की चुदाई की। कहानी आपको कैसे लगी, अपनी कमेंट्स नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर जरुर दे।

loading...

Hindi Sex Story

Hindi Sex Stories: Free Hindi Sex Stories and Desi Chudai Ki Kahani, Best and the most popular Indian top site Nonveg Story, Hindi Sexy Story.


Online porn video at mobile phone


dibali me cudane ki kahanii maa ke sathcudaiभाई ने कुवारी बहन को गाभिन किया चुदाई की कहानियाँhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaहिंदी में सेक्सी बात करते हुए हिंदी सेक्सी वीडियो बाबूजी तेरी च** को चोदा नाhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayasistarandbradarsxxगोवा मे चुदाई मौसी कि चुdidi ko khade hokar mutte dekha sex storyपैसे के लिये भाई को पटाकर चुद गईहब्शी लंड से खुब चोदाhindisexestoryबडी ओरत सेकसी इशारे देते हेghar la maal cudai nonvagdibali me cudane ki kahaniदीदी रोज चुदती थीChacha ki ladki k sath diwali manai sex storyकार सिखाया की चूत मारीचुदाई करके बहन को गर्भवती बनाया बहन के कहने परxx hide storydaver ne bhbhi ke cut cudae kri khani btaeydibali me cudane ki kahaniMa beteki suhagrat kahani hindiwidhwa ki chudai aur bacha hua sex storydibali me cudane ki kahaniमम्मी ने बेटी को घर में बियर पिलायासहेली की च** में जबरदस्ती डाली पूरी बोतलhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayahotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaपापा से पेला रजाईपापा कैसी हे मेरी चूतdibali me cudane ki kahanidibali me cudane ki kahanihttp://dzudo63.ru/tousatu-meijin/sir-ne-mujhe-khoob-choda/dibali me cudane ki kahanidibali me cudane ki kahaniमाँ कोपटाया सकशिचुदवा कर पति की नौकरी बचाईनॉनवेज सेक्स स्टोरी रक्षा बंधन bhai khuleaam sex kahanidibali me cudane ki kahaniचाची पटी न हो एकाएक चाची को पटाकर कैसे चोदे कहानी मेमामी के बेटे कि ओरत साथ सेकस काहानी पडने को बता ओBahan ko thand se bachaya chut chodkar"भीड़" "मम्मी" "लंड" गांड" "कपड़े" "ट्रैन"jija ne sali ke burs ke sare bal kat ke bur ko chuma liya सरदार ने अपनी सगी बेटी छोड़िhindisexestorybhai ne bahan ko tel malish k bahame chod diya hendi sex kahani cmकुवारी बहिणीचे च**** व्हिडिओantravasnamomdaily new संभोग कथा in Marathibhabhi ki seal toda holi k dinमाँ पुत्र वासना अन्तरवासनामराठी भाऊ नि बहिन जबरदस्ती झवले XNXX SeX COMdesi sexy hiniबुर फाड़ अपनी मम्मी को कहानी हिंदी बूर फर अरे अपनी मम्मी को कहानी हिंदीpadson ma beta ko black mail kr choda kamuktaचाची ke saath daaru अनुकरणीय thook पिया paad sunghi सेक्स atorycar sikane ke badle bhen ne chut chatne ko didibali me cudane ki kahaniमराठी पऱनय कहानीकामुकता डौट कम बहन की गाड मारीmuth marta pakda gaya sexy storydibali me cudane ki kahaniमाँ को मोबाइल से फंसा के चोदा www.kujiya ko cauda sex storyगोवा मै भाभी बिचपर चुदाई का मजा कहाणीयाmuche neri maa ne muti marte huwe dekh liya xxx kahani hindiNasha krke admi ne aurat ki bohat bedardi se gand Mari sexy storysassexstorysarde mi mose ko choda xxx kahaneसुहागरात मराठी नॉनवेज जोकwidhva hokar sambhog sex storiesninvegsexstoriछोटी बहन की जमकर चुदाई की मेनेblackmail करके बूर में डाल दिया होंठ चूसनेantarvasna mahnje Kay astमेरे भाई ने सास को चुदाtutionwale sir ne chudhi keantaravsna principal and momNasha krke admi ne aurat ki bohat bedardi se gand Mari sexy storydost ki bahan ki chudai talab maisekase pacvoa xxxxhindisexestorydibali me cudane ki kahanihotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaपति के सामने अनजान मर्द से चुदवा लीबडी दीदी की चुदाई की कहानीलवडाचे Imagesdibali me cudane ki kahaniससुर ने अपने कमरे मे मुझे बुलाकर चोदा सेकसी कहानियाstringरसभरी बूर की चौड़ाई की स्टोरी हिंदी मक्सनक्सक्स देसी सर्ब पि का ganddibali me cudane ki kahaniyou taba sas ne damad ka land chusijija ne sali ke burs ke sare bal kat ke bur ko chuma liya wwwxxx hidi kahani com