पापा जी ने मेरी पहली चुदाई की

पापा जी सेक्स
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

पापा जी सेक्स कहानी, वर्जिन सेक्स स्टोरी, हिंदी में चुदाई की कहानियां, लखनऊ सेक्स स्टोरी, ग़ज़िआबाद सेक्स स्टोरी, दिल्ली की चुदाई कहानी

दोस्तों मेरा नाम गुन्नू है। आज मैं आपको अपनी सेक्स कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुनाने जा रही हूँ। मेरी ये चुदाई की हॉट कहानी बहुत पसंद आएगी।

कैसे पापा जी ने मेरी पहली चुदाई की और मेरी चूत के रस को पिया, रात भर मैं भी मजे की वो सारे अनुभव आपके सामने शेयर कर रही हूँ।

मैं अठारह साल की हूँ। गाजिआबाद जो दिल्ली के पास है वही रहती हूँ। मेरे घर में दो बहने और मेरी माँ है। बहन की शादी लखनऊ में हुई है। वो अपने ससुराल में ही रहती है। मेरी माँ शिक्षिका है वो एक स्कूल में पढ़ाती है। आपको पता होगा अभी अभी दिल्ली में जो चुनाव हुआ है उनकी भी ड्यूटी लगी थी तो दो दिन के लिए वो चुनाव के लिए बाहर गई थी मैं घर में अकेली थी।

मेरे दीदी के ससुर जिनको मैं भी पापा जी ही कहती हूँ। वो किसी काम से दिल्ली आये थे। तो वो रात में मेरे यहाँ ही रुक गए थे। रात को मैं अपने कपडे चेंज कर सोने जाने लगी तो वो गुन्नू बेटा मेरे पास बैठो बातचीत करते हैं।

मैं भी उनके साथ बैठ गई। उनके ही बेड पर वो अपने जवानी की कहानी सुनाने लगे। फिर वो धीरे धीरे जवानी में क्या क्या किया वो बताने लगे। फिर सेक्स पर आ गए वो कितने के साथ सेक्स किया था जवानी में शादी के पहले वो बताने लगे। फिर वो शादी के पहले सेक्स क्यों करने चाहिए और इसके क्या फायदे होते हैं बताने लगे।

धीरे धीरे वो मुझे बहसी आँखों से देखने लगे और मेरे जांघ पर अपना हाथ फेरने लगे। मैं बोली पापा जी आप क्या कर रहे हैं? तो वो बोले क्यों तुम्हे अच्छा नहीं लग रहा है। तो मैं बोली नहीं नहीं अच्छा तो लग रहा है। मैं इसके आगे कुछ बोलती की वो बोल पड़े मजे लो ऐसा मौका कभी नहीं आएगा तुम भी अकेली हो आज मैं तुमको चुदाई कैसे करते है और तुम अपने पति को कैसे खुश करोगी जब तुम्हारी शादी होगी वो सभी बताऊंगा।

धीरे धीरे वो मेरे होठ को छूने लगे। वो रजाई हटा दिए तो देखि उनका लौड़ा तम्बू ताने खड़ा था मैं मचल गई देखकर बूढ़े का मोटा लौड़ा।

दोस्तों वो मेरी बाल पकड़कर अपने तरफ खींच लिए और मेरे होठ को अपने होठ के पास ले गए और चूसने लगे। मेरी पिंक होठ उनके होठ पर जब पड़ा वो मचल उठे। वो तुरंत ही अपना पजामा का नाडा खोला और निचे कर दिया अंदर बियर ही। दोस्तों उनका लौड़ा सलामी देने लगा था। वो तुरंत ही मेरे बाल पकड़कर अपने लंड के पास ले गए और हाथ से लौड़ा पकड़कर मेरे मुँह में दे दिए और निचे से हौले हौले धक्के देने लगे।

मेरी चूत गीली होने लगी। अब वो मेरा टीशर्ट उतार दिए कैमिसोल पहनी थी वो भी उतार दिए मेरी चूचियां दबाने लगे। मैं उनका लौड़ा चाट रही थी वो सिसकारियां ले रहे थे। दोस्तों आप ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं। उसके बाद मुझे फिर से करीब लाये और मेरी चूचियां पिने लगे मैं भी अपनी चूचियां पकड़ पर पिलाने लगी।

वो मुझे पटक दिए और ऊपर चढ़ गए अपने लौड़े को मेरे बूब्स पर रगड़ने लगे। फिर मेरी पेण्ट उतार दिया मेरी पेंटी भी उतार दी। वो मेरी टांगो के बिच में चले गए पहले वो मेरी चुत में ऊँगली डाली जब उनके ऊँगली में चुत का पानी लग गया वो ऊँगली चाटने लगे। ऐसा लग रहा था उनको बहुत स्वाद मिल रहा है मैं पूछी पापा जी कैसा लग रहा है वो बोले नमकीन।

फिर वो जीभ से चाटने लगे। मैं उनके बाल पकड़ कर चुत चटवाने लगी। मैं मजे लेने लगी मेरी सिसकारियां निकलने लगी। अब वो अपना लौड़ा निकाल कर मेरी चुत पर लगाया पर बहुत ही ज्यादा दर्द कर रहा था। उन्होंने फिर थूक लगाया अपने लंड पर और मेरी पतली छोटी चुत में लौड़ा घुसाने लगे।

तीन चार बार कोशिश करने के बाद वो अपना पूरा लौड़ा चुत में गाड़ दिए। मैं दर्द से कराह रही थी। मैं चुद रही थी। दर्द में भी मजा लग रहा था। मैं खूब मजे लेने लगी थी।

दोस्तों उन्होंने पूरी रात चोदा। मैं पहली बार चुदी अपनी सील भी तुड़वाई। खूब मजे की मेरी पहली चुदाई मजेदार रही। मैं आपको दूसरी कहानी भी इस वेबसाइट पर जल्द लिखने वाली हूँ। आप रोजाना विजिट कीजिये नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम।

खूबसरत पड़ोस वाली भाभी की चुदाई 2

devar bhabhi sex story
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

Sex Story Devar Bhabhi, Latest 2020 Sex Kahani Devar and Bhabhi
जैसा कि आपने पिछली कहानी में पड़ा कि कैसे में भाभी के घर गया और उसे नंगा देखा और उसने कैसे मेरा लंड पकड़ कर मुझे झरने से रोक लिया अब आगे भाभी ने कहा मैने लंबे समय से तुम्हारा इंतजार किया सही मौके का मैने कहा भाभी में आप की बात समझा नहीं आप क्या कहना चाहती है

भाभी ने कहा ओह मेरे हर्ष तुम तो बड़े भोले बन रहे हो जैसे कि तुम मुझे रोज घुर कर नहीं देखते दोस्तो आदमी कितने भी तरीके से औरत को देखे मगर उनकी नजरें बहुत तेज होती है जो हम जैसे शातिर खिलाड़ियों को भी पकड़ लेती है। भाभी ने कहा जो तुम ने अभी देखा वो गलती से नहीं देखा ऐसा में चाहती थी। की तुम मुझे नंगी देखो और हिम्मत कर के मेरी चुदाई करो फिर भाभी ने मेरा माल चूसकर ख़तम कर दिया और कहा आज देखते है कि तुम में कितना दम है . dzudo63.ru

यह कहकर भाभी उठी और मेरे होठों को चूमने लगी भाभी ओह जानू में तुम्हारा कितने दिनों से इंतजार कर रही थी तुम्हारी सारी इच्छाएं आज मेरे साथ पूरी कर लो भाभी ने कहा आज में अपना सबकुछ आप को दे रही हूं। मैने कहा भाभी में बहुत खुशनसीब हूं जो तुम जैसी हसीन कि चुदाई करूगा उसने खींच कर मेरे शर्ट के बदन तोड़ दिए में अपने आप को बहुत नसीब वाला मान रहा था कि जिस औरत को मेरे कालोनी वाले पाना चाहते थे

वो आज मेरे लंड के नीचे होगी। उसने मुझे बेडरूम में ले जाकर बिस्तर पर धकेल दिया और मेरी शर्ट खोलने लगी मैने उसकी चूचियां पकड़ने कि कोशिश की लेकिन उसने मेरे हाथ को वहा से हठा दिया और मुझे सबर करने को कहा उसने हाथ नीचे ले जा कार मेरी पेंट और साथ ही मेरी चडी को भी उतार दिया तो देखा मेरे लन्ड पर बहुत बाल थे

जो मैने एक महीने से काटे नहीं थे उसने देखा और कहा मुझे ऐसे ही लड़के पसंद जिनके लंड के आस पास बहुत बाल हो। मेरा 8इंच का लंड थीरे से अपनी ओकात में आरहा था। मैने फिर से उसके बूब्स पकड़ने कि कोशिश की तो मगर उसने अभी भी मुझे थोड़ा इंतजार करने को कहा और कमरे से बहार चली गई में कंफ्यूज हो रहा था जब वह वापिस आई कमरे में तो उसके हाथ में एक बेग था। वह क्या चाहती थी में अभी तक समझ नहीं पा रहा था।

उसने बेग में से एक रस्सी निकाली और मेरे दोनों हाथों को बेड के किनारे बांध दिया में इस बात से हैरान था हालांकि मैने बहुत सो की चुद फार्डी है मगर ये एहसास मेरे लिए नया था उसने बेग मेसे एक चीज निकाली शायद वह कपन करने वाला लंड था मैने कहा ये सब आप उपयोग करती है उसने कहा हा मेरे पति बिस्तर पर इतने अच्छे नहीं है तो क्या करू  इनका उपयोग आप पर करते है आप मुझे निराश नहीं करेगे मैने कहा क्या में नहीं मुझ पर ट्राय मत करो नेहा

आई रिक्वेस्ट यू नेहा ने कहा ट्राय तो करो मेरी अब फटने लगी थी मगर नेहा को थोड़ी देर में हसी आई और कहा में तो मजाक कर रही थी और कहा अब मालूम पड़ा जब तुम हमारी गांड के अंदर लंड डालते हो तो हमे केसा दर्द होता है अभी तो मैने सिर्फ डराया था यदि सही में तुम्हारी गांड मारती तो तुम्हारा क्या हाल होता मैने कहा तुम सच कह रही हो मगर औरत की गांड का जो मजा है

उस एहसास को हम मर्द लोग को उसने ही मजा आता है शुरू में तो दर्द होता है मगर फिर साथ में तुमको भी तो मजा आता है नेहा मेरी बात पर फिर हसी और मेरे लंड के ऊपर बैठ कर मुझे चूमना शुरू कर दिया वह मेरे होठों को मेरे चेहरे पर मेरी बगल मेरी छाती मेरे पेट और मेरे पाव उसने हर जगह मुझे चूमा और चाटा मगर मेरे लंड को टच भी नहीं किया मैने कहा नेहा मेरे लंड को भी तो चूसो मगर उसने इनकार कर दिया और कहा जब तक तुम भीख नहीं मांगते तब तक वहा टच तो क्या चुसुगी भी नहीं।

तो मैने उससे भीख मागी मेरे लंड को चूसने के लिए उसने चट्टी नीचे कर उसने थोड़ा चूमा और अपने हाथ से मेरे लंड को हिलाया फिर उसने मेरी गेदो को चाटा अपनी जीभ से मेरे लंड के के चारो और फेरी मेरे लंड ने एक ठुमका उसके मुंह पर मारा तो उसने कहा तुम्हें इसकी सजा जरूर मिलेगी में सोच में पड़ गया अब क्या करने वाली है।और अपने हाथ से मेरे निपल को जोर से दबाया मुझे बहुत दर्द हुआ मगर उस समय में काम वासना के असर में था। फिर वो अपने तन को मेरे तन से रगड़ने लगी और मुझे परेशान करने लगी इन सब में मेरा लंड बिना चुद के दर्द कर रहा था।

नेहा ने कहा केसा लगा मेरा फोरप्ले अब असली शो का टाइम आ चुका है फिर उसने बेग में से कुछ चिकनाई जैसी एक क्रीम निकाली और अपने हाथ में लेकर मेरे पूरे शरीर की मालिश करने लगी मालिश करते हुए उसके बॉब्स मेरे आंखो के सामने हिल रहे थे मगर में कुछ कर नहीं सकता था फिर उसने हाथ में पानी लेकर मुझे साफ किया और मेरा एक हाथ खोल दिया अब मुझे थोड़ा बेहतर फिल हो रहा था। लेकिन में उसकी फैंटेसी को रोकना नहीं चाहता था

इसलिए अपनी काम वासना पर काबू करने की कोशिश कर रहा था और बेग में से एक हंटर निकाला और मेरे पाव और मुझे घुमा कर हंदर मारने लगी उस समय तो मुझे ऐसा लगा जैसे उसमे कोई शैतानी आत्मा आगईं हो मगर वो रुकी नहीं टोटल उसने 10हंटर मुझे मारे और साथ ही एक और रस्सी से मेरे दोनों पाव बांध दिया वो फिर से कमरे के बहार गई और थोड़ी देर में कुछ हाथ में लेकर आई

मैने पूछा तो कहा तुम आज का ये सेक्स हमेशा याद रखोगे और जहा उसने हंटर मारा था वहा लाल मिर्च और नमक लगाया मुझे ऐसा दर्द हुआ की मेरी आंखो में से आशु आगए मुझे ऐसा लगा जैसे में कोई मुजरिम हूं और वो कोई जेलर जो मुझे टॉर्चर कर रही हो मैने दर्द में ही उससे कहा नेहा अब तो तुम्हारी फैंटेसी पूरी हो गई अब तो मुझे खोल दो मगर फिर वो वापिस हसी और कहा अभी तो शुरुआत हुई है अभी तो तुम्हारे साथ बहुत कुछ ट्राय करना है मुझे लगा

आज तो सेक्स की जगह भूतनी मेरे पीछे पड़ गई है जो आज तो मुझे मार के ही दम लेगी मुझे अपनी गलती पर पछता भी रहा था कि कहा में इसकी चुद के पीछे पड़ा। मगर उसने थोड़ी देर में बर्फ के टुकड़े से मेरे घाव पर मालिश करने लगी जिससे मुझे कुछ राहत मिली मगर ये आराम थोड़ी देर के लिए ही था अभी तो बहुत कुछ बाकी है इस कहानी के नेक्स्ट पार्ट का इंतजार कीजिए मेरे दोस्तो ये कहानी में आप को इंटरेस्ट तो आया न और ये कहानी का भाग केसा लगा मुझे बताए
[email protected]

तीनो बहनों ने बारी बारी से चुदवाया मुँह बोले भैया से(Opens in a new browser tab)

बॉयफ्रेंड मेरी माँ को मुझे और मेरी छोटी बहन को चोदता है।

indian sex
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

Threesome Sex Story in Hindi : जी हाँ दोस्तों यही सच है मेरा बॉयफ्रेंड मुझे भी चोदता है मेरी माँ को भी और मेरी छोटी बहन को भी चुदाई करता है।

मैं दिल्ली में रहती हूँ पटेल नगर में जॉब करती हूँ। मेरे पापा नहीं हैं वो चल बसे पिछले साल ही। कमाने वाली में सिर्फ मैं हूँ। मेरी छोटी बहन जो की अभी अठारह साल की है पढाई करती है। मेरी माँ जो घर पर ही रखकर बुटीक का काम करती है।

जैसे मैं घर से बाहर निकली जॉब करने मेरी ज़िंदगी बदल गई। दुनियां का चकाचौंध देखि और मेरे कदम लड़खड़ा गए। पैसे की तंगी भी थी जॉब करना जरुरी था।

पर ऑफिस में काम करने वाले एक लड़के से मेरा प्रेम सम्बन्ध हो गया और फिर चुदाई में बदल गई। पहले दिन उसने मुझे ऑफिस में चोदा वो मेरी पहली चुदाई थी। फिर तो पहाड़गंज में होटल में तो शनिवार को कई बार चुदाई की मेरी क्यों की मैं घर में बताती थी शनिवार को ऑफिस रहता है पर उस दिन ऑफिस बंद रहता था मैं सुबह से रात के आठ बजे तक अय्यासी करती थी।

मैं अपनी बात ज्यादा दिन तक नहीं छुपा पाई और मेरे घर में पता चल गया। तो मम्मी बोली उसको घर बुलाने को मैं घर बुलाई। माँ उससे बहुत इम्प्रेस हुई। अब वो मेरे घर आने जाने लगा और धीरे धीरे वो मेरी छोटी बहन के भी करीब आ गया।

जब मैं ऑफिस जाती वो भी ऑफिस आता पर वो ऑफिस में कुछ ज्यादा ही छुटियाँ लेने लगा। मैं पूछती आखिर इतनी छुट्टी क्यों करते हो तो वो बहना बना देता था।

मुझे लगा की शायद जब मैं ऑफिस आती हूँ और मेरी बहन कॉलेज जाती तब वो घर जाता है। एक दिन मैं घर से ऑफिस के लिए निकली और एक घंटे में वापस आ गई घर पर ऑफिस नहीं गई। जब घर पहुंची तो बॉयफ्रेंड का बाइक मेरे घर पर खड़ा था। मैं गेट लगा था उसकी चाभी मेरे पास थी।

मैं गेट खोलकर अंदर गई तो दंग रही गई। मेरा बॉयफ्रेंड मेरी माँ को चोद रहा था। मेरी माँ नंगी बेड पर थी और वो मम्मी को चूचियों को दबा रहा था। और दोनों टांग अपनी कंधे पर रखे हुए था और मेरी माँ के चुत में लंबा मोटा काला लौड़ा डाले जा रहा था।

माँ हरेक झटके पर हिल रही थी और आह आह आह आह की आवाज निकाल रही थी। वो जोर जोर से माँ की चुत में लौड़ा घुसा रहा था और माँ मजे ले ले कर चुदवा रही थी।

मैं वापस अपने ऑफिस आ गई तब तक हाफ टाइम हो गया था। मैं बहुत ही ज्यादा उदास थी पर खुश इस बात से थी की मम्मी उससे कह रही थी जब तक तुम मुझसे प्यार करोगे तब तक तुम मेरी बेटी को भी प्यार करोगे नहीं तो उसकी शादी किसी और से करवा देंगे।

अब मैं सोचने लगी थी की अगर मैं बोलुं ये रिश्ता गलत है तो मैं भी अपने बॉय फ्रेंड को खो दूंगी इसलिए मैं चुप ही रही। क्यों की आधे खर्चे मेरे घर का वो भी चला रहा है। मेरी सैलरी से कुछ भी नहीं हो रहा था।

दोस्तों आप ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं। एक दिन की बात है मेरी माँ नानी के यहाँ गई थी। मैं और मेरी बहन ही घर पर थे। उस दिन मेरी बहन की छुट्टी थी और मैं ऑफिस आ गई। पर दोपहर तक मेरी तबियत ख़राब हो गई और वापस घर आ गई।

मैं फिर देखि उसका बाइक मेरे घर के पास खड़ी थी। फिर मैं गेट खोलकर अंदर गई तो देखि मेरी बहन चिल्ला चिल्ला कर चुदवा रही थी।

वो बॉयफ्रेंड के ऊपर बैठी थी और उसका लौड़ा अपने चुत में लेकर जोर जोर से धक्के गोल गोल करके दे रही थी। और आह आह आह आह ले लो मुझे चोद दो मुझे कह रही थी।

कभी वो निचे कभी मेरी बहन निचे वो अलग अलग तरीके से चोद रहा था और चूचियां मसल रहा था मेरी बहन चुदवा रही थी सेक्सी आवाज निकालकर। मुझे लगा की ये गलत है और मैं सीधे अंदर चली गई।

बहन मेरी तुरंत ही कपडे पहन ली। और वो भी कपडे पहनने लगाए मैं पूछी ये क्या हो रहा है तो वो सिर्फ सॉरी सॉरी बोल रहा था।

दोस्तों अब सब कुछ नार्मल हो गया है मुझे हालात से समझौता करना पड़ा पर अब हम तीनो ही चुदाई करवाते है। अब वो रात में मोस्टली यही रहता है और फिर क्या करता होगा आप खुद ही समझ जाइये।

मैं दूसरी कहानी नॉनवेज स्टोरी पर लिखने वाली हूँ तब तक के लिए धन्यवाद.

18 साल की हुई उसी दिन पापा ने सील तोड़ी मेरी चूत की

बाप बेटी सेक्स
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

Bap Beti Sex : दोस्तों मेरा नाम कोमल है कल ही मैं अठारह साल की हुई है और रात में मेरी चुत फट गई कैसे हुई मेरी पहली चुदाई वो आज आपको बताने जा रही हूँ।

मैं दिल्ली में रहती हूँ। मैं अपने पापा और मम्मी के साथ रहती हूँ। मम्मी मेरी जॉब करती है एक सॉफ्टवेयर कंपनी में और पापा घर से ही काम करते हैं। मेरी मम्मी अभी दुबई गई हुई है कंपनी के काम से और मैं और पापा घर पर थे।

ये मेरे दूसरे पापा हैं क्यों की मम्मी ने दूसरी शादी की है। मम्मी कि उम्र मात्र छतीस साल है और मेरे पापा जिनके साथ मैं रहती हूँ वो चालिस साल के हैं।

मेरे पहले वाले पापा अब दूसरी शादी कर लिए हैं। पर नए पापा बहुत अच्छे हैं। आखिर कल ऐसा क्या हुआ था की पापा मुझे चोद दिए और सच पूछिए तो मैं भी मना नहीं की। हुआ यू की कल ही मेरा बर्थडे था। कल सुबह ही एक गड़बड़ हो गई थी। मेरे बॉय फ्रेंड का फ़ोन आया था और पापा को पता चल गया था की मेरा कोई बॉयफ्रेंड है.

पापा बोले बेटी आजकल ज़माना ख़राब है तुमको पटा कर सिर्फ तुमसे गलत काम करेगा। और तुम्हारी ज़िंदगी बर्बाद हो जाएगी। तुम क्या चाहती हो अपने मम्मी को दुखी करना चाहती तो तो कोई बात नहीं और अगर एक अच्छी लड़की बननी चाहती हो तो ये सब चीज से दूर रहो।

तुम्हे जो भी चीज की कमी है वो तुम या तो अपनी मम्मी से कहो या मेरे से कहो हम दोनों हैं तुम्हारी हेल्प करने के लिए। तो मैं बोली पापा आप ये बताओ मेरी तीनो फ्रेंड को बॉय फ्रेंड है और उसमे से दो लड़की तो सेक्स भी कर चुकी है।

तो पापा बोले देख बेटी बहुत रिस्क है इन सब चीजों में। और रही बात सेक्स की तो ये सब बकवास है। एक दिन का खेल है। तो मैं बोली मैं एक दिन का खेल खेलना चाहती हूँ क्या आप मुझे खेल खेलायेंगे। आज मैं अठारह साल की हो रही हूँ। आप चाहे तो आज ही खेल लेते हैं मम्मी भी नहीं है यहाँ पर।

तो वो बोले पर ये बात मेरे और तुम्हारे बिच रहने चाहिए। तुम्हे मैं बहुत खुश करूंगा। मैं बोली पता नहीं मुझे कभी किसी से ये बात शेयर नहीं करने चाहिए। और मैं आपसे प्रॉमिस करती हूँ मैं ये बात किसी को नहीं बताउंगी।

और पापा बोले आई लव यू और मुझे गले से लगा लिए शाम के चार बज रहे थे। उन्होंने कहा आज मैं चाहता हूँ तुम्हारा बर्थडे घर पर बड़े ही धूम धाम से मनाऊं। मैं बहुत खुश हुई बोली ये तो बहुत अच्छी बात है।

और फिर हम दोनों मॉल गए वही पर केक खरीदे। पापा मेरे लिए कई सारे कपडे और गिफ्ट ख़रीदे। उन्होंने के रेड कलर की ब्रा और स्टाइलिस्ट पेंटी जो की बहुत से सेक्सी थी वो भी लिए मेरे लिए।

घर पहुंचकर केक काटी क्यों की मम्मी को भी फ़ोन पर लाइव दिखाना था। फिर पापा न दुसरा केक निकाला और मुझे बोले अब तुम इससे भी काटो आज समझना तुम्हारी जवानी भी कटेगी। तो तुम नए ब्रा और पेंटी में आ जाओ बाल खुले रहो।

वैसा ही की मैं ब्रा और पेंटी पहनी जो की बहुत ही ज्यादा सेक्सी थी। बाल खुले रखे मेरे गोर बदन और भरा पूरा शरीर पर लाल लाल ब्रा और पेंटी वो भी सेक्सी सा बहुत खूब लग रहा था।

दोस्तों केक काटते ही वो मुझे केक खिलाये मैं भी उनको खिलाई। उन्होंने मेरे होठ पर केक लगा दिए और गालों पर भी उसके बाद वो मेरे होठ को चाटने लगे गाल को भी चाटने लगे.

मुझे पहली बार ऐसा हॉट सा एहसास हो। मैं भी पापा को चूमने लगी वो मुझे उठाकर बैडरूम में ले गए। उन्होंने मेरे होठ को चूसना शुरू कर दिए

दोस्तों मैं पागल हो रही थी मेरी चूत गीली हो रही थी। मेरे रोम रोम खड़े हो रहे थे पापा नंगा हो गए और धीरे धीरे मेरे दोनों कपडे उतार दिए। अब वो मेरी चूत चाटने लगे बार बार मेरी चूत से पानी निकलता और उसे वो साफ़ कर देते।

दोस्तों मेरी चूचियां बड़ी बड़ी और निप्पल टाइट हो गया था। वो बार बार मेरी बूब्स को दबा रहे थे और निप्पल अपने दांतो से दबा देते। मैं आह आह करने लगी वो भी लम्बी लम्बी सांसे लेने लगे। मैं मदहोश होने लगी थी।

दोस्तों क्या बताऊँ आपको उन्होने अपनी ऊँगली जैसे ही मेरी छूट में डालने लगे मुहे काफी दर्द होने लगा वो अपना जांघिया उतार दिए। उनका लौड़ा बहुत मोटा और लंबा था मैं डर गई। सोची जब इतनी पतली ऊँगली से दर्द हो रहा था अगर मोटा लौड़ा चुत में गया तो क्या हाल होगा.

उन्होने लौड़ा चुत पर लगाया और घुसाने लगे पर वही दर्द काफी हो रहा था। वो धीरे धीरे घुसाने लगे. दर्द से कराह रही थी। पर चुदने का भी था। लग रहा था लौड़ा किसी तरह से अंदर ले लूँ। मेरे होठ बार बार सुख रहे थे।

दोस्तों मेरी छूट काफी गीली हो गई थी और पानी में चिकनाई थी उनका लौड़ा बार बार फिसल जा रहा था। पर उन्होंने मेरे दोनों टांगो को अपने कंधे पर रखा और जोर से पेल दिया चुत में।

मैं दर्द से हाय माँ कर गई चुत फट गई थी। दर्द हो रहा था छूट से खून निकल रहा था। पर वो अब धीरे धीरे करके घुसा ही दिए और फिर अंदर बाहर करने लगे और मेरी चूचियों को दबाने लगे पिने लगे.

मैं भी कामुक हो चुकी थी मैं धीरे धीरे गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी अब दर्द भी खत्म हो गया था। अब मजे लेने शुरू हो गए थे। वो जोर जोर से चोद रहे थे और मैं मजे ले ले के चुदवा रही थी।

दोस्तों उन्होंने मुझे पूरी रात चोदा करीब आठ बार। वो कह रहे थे गजब की माल हो तुम। अब से तुम मेरी रखैल हो जब भी मम्मी बाहर जाएगी या ऑफिस जाएगी मैं तुम्हे खुश करते रहूंगा.

दोस्तों ये कहानी कल की है। मैं भी आपको कहानियां पढ़ती हूँ इसलिए आज मैं आपको नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लिख रही हूँ।

मैं जल्द ही आपको दूसरी कहानी सुनाऊँगी। तब तक के लिए धन्यवाद.,

Father Daughter Sex Story – पापा ने कल पूरी रात मुझे चोदा

बाप बेटी सेक्स स्टोरी
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

Father Daughter Sex Story in Hindi, बाप बेटी सेक्स स्टोरी, बेटी की चुदाई, : दोस्तों आज मैं आपको अपनी एक सच्ची कहानी सुनाने जा रही हूँ। मैं नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम की फैन हूँ। मैं रोजाना इस वेबसाइट की कहानियां पढ़ती हूँ इसलिए आज मुझे भी आपको अपनी कहानी बताने जा रही हूँ।

मेरा नाम सखी है। मैं अठारह साल की हूँ। मैं ग्रेटर नॉएडा में रहती हूँ। मैं लखनऊ की रहने वाली हूँ। मेरी माँ जो की अभी छह महीने पहले ही दूसरी शादी की है। मेरे पापा जो पहले वाले थे वो हम माँ बेटी को छोड़कर दूसरी शादी कर लिए हैं।

इसलिए माँ भी दूसरी शादी कर ली है। माँ की उम्र अभी छत्तीस साल है वो हॉट और सेक्सी महिला है। वो काफी खुले विचार की है इसलिए मुझे भी किसी चीज के लिए मना नहीं करती हैं।

दोस्तों अब बात आती है पापा की तो मैं क्या कहूं आपको मेरे पापा मेरे से बस दस साल बड़े है और मम्मी से आठ साल छोटे यानी मेरी मम्मी अपने से आठ साल छोटे लड़के से शादी की है। यानी की मम्मी भी खूब मजे ले रही है जवान लंड से और मुझे भी एक लंड मिल गया घर में ही।

मेरी माँ एयरलाइन्स में काम करती है वो घर से बाहर कई बार एक सप्ताह के लिए रहती है। पापा का यानी रमेश जी अब मैं रमेश जी ही बोलूंगी।

रमेश जी का इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का काम है। तो कई बार वो काफी दिन इंडिया से बाहर रहते है और कई बार वो घर पर ही रहते है। जब वो घर पर रहते हैं मुझे और मम्मी का बहोत ख्याल रखते हैं।

जब भी घर पर रहते हम दोनों के लिए खाना तक बनाते शॉपिंग कराते। कभी वो मम्मी को घुमाने ले जाते कभी मुझे। सच तो ये है दोस्तों मैं भी आकर्षित होने लगी थी।

कल सुबह की बात है। वो मुझे तैयार होने के लिए बोले वो मम्मी को एयरपोर्ट छोडने जाने वाले थे तो बोले सखी तुम भी तैयार हो जाओ। मम्मी और मैं दोनों तैयार हो गए वो अपनी स्कोडा कार निकाले क्यों की मम्मी को भी अपनी कार है।

मम्मी को एयरपोर्ट छोड़ दिए और फिर हम दोनों दिल्ली के एक बड़े होते में खाना खाये। तो मैं बोली क्या मस्त होटल है ना। तो वो बोले एक काम करते है। मम्मी तो सात दिन में आएगी इस होटल में कमरा लेते है एक दिन के लिए और तुम खूब एन्जॉय करना।

मैं बोली ये तो बहुत अच्छा होगा और फिर होटल में तुरंत ही चेकइन कर गए। बड़ा सा कमरा मस्त बेड था जाते ही मैं उछल कर बेड पर चढ़ गई। और मैं रमेश जी को गले लगा ली और चूम ली।

दोस्तों मैं उनके गाल पर चूमि पर होठ को चूमने लगे। मैं शांत हो गई। मैं उनको चाहती तो थी पर एक बात लगा था वो मेरे नहीं मेरी माँ के पति है। इसलिए मैं दुरी बनाती थी। पर आज ये दूरियां मिट गई थी।

मैं अपना होशो हवास खो दी। और मैं भी उनको चूमने लगी धीरे धीरे वो मेरी चूचियां दबाने लगे. वो मेरे कपडे उतारने लगे और मैं उनको चूमने लगे। हम दोनों ही नंगे हो गए।

मैं बेड पर लेट गई वो पहले मेरी चूचियों से खेलने लगे और फिर वो मेरी चूत को चाटने लगे। मैं आह आह आह की आवाज निकालने लगी। मैं अंगड़ाइयां लेने लगी। सिसकारियां निकालने लगी.

दोस्तों मेरे रोम रोम सिहर रहे थे क्यों की वो मेरी चूत चाट रहे थे। मैं खुद ही उनके छाती के बाल को सहला रही थी। वो मेरी गांड में ऊँगली डालने लगे। मैं कुछ नहीं बोली। वो अपनी ऊँगली में थूक लगाए और मेरी गांड में ऊँगली घुसा दिए।

मैं बेचने हो गई मेरी चूत गरम हो गई थी। वो मुझे छेड़े ही जा रहे थे। मैं बोली बस करो अब पापा जी। वो बोले जब हम दोनों साथ रहें तो रम मुझे मेरे नाम से ही पुकारो।

मैं बोली ठीक है मेरी जान मेरी जानू अब मुझे चोद दो। मैं प्यासी हूँ।

उन्होंने अपना लौड़ा मेरी चूत पर लगाया और जोर से तीन चार बार कोशिश करने के बाद पेल दिया। अब मुझे जन्नत दिखाने लगे। वो जोर जोर से चोदने लगे और गांड में ऊँगली करने लगे।

मैं आह आह कर रही थी। वो मेरी चूचियों को मसलते हुए चोदे जा रहे थे। कभी वो ऊपर मैं, कभी साइड से कभी ऊपर से कभी निचे से कभी खड़े होकर।

पूरी रात करीब आठ बार वो झड़े और मैं भी शांत हुई। पर दारु और विआग्रा का कमाल ने तो उन्हें घोडा बना दिया।

पूरी रात जन्नत का मजा ली हूँ दोस्तों। दूसरी कहाँ जल्द ही नॉनवेज स्टोरी पर लिखने वाली हूँ।

माँ खुद भी चुदी और मुझे भी चुदवाई रात भर पापा के दोस्त से

अंकल सेक्स कहानी
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

Ma beti Sex, Uncle Sex, Virgin Sex, Mother Sex Story, Hindi Sex Story, Mother and Daughter Sex Story,

मेरा नाम डॉली है मैं अठारह साल की हूँ और मेरी माँ का नाम प्रीति है वो 36 साल की है। घर में मेरी छोटी बहाना और पापा है। मेरी मम्मी बहुत हॉट और सेक्सी महिला है तो मैं भी उनके ही नक़्शे कदम पर चली और अब मैं भी किसी सेक्सी से कम नहीं हूँ। आज मैं आपको अपनी एक सेक्स कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुनाने जा रही हूँ। मैं इस वेबसाइट की फैन हूँ और रोजाना इस वेबसाइट कहानियां पढ़ती हूँ और चूत में ऊँगली करती हूँ।

आज मैं जो कहानी आपको सुनाने जा रही हूँ वो मेरे पापा के दोस्त राजीव अंकल के बारे में है वो एक रात को पहले मम्मी को चोदे और फिर मुझे रात भर माँ बेटी को चोदते रहे आज मैं पूरी बात आपको बताने जा रही हूँ। आखिर क्या हुआ था और मेरी माँ मुझे भी चुदने के लिए क्यों कहा बता रही हूँ।

सच्चाई तो ये है की मेरे पापा एक नंबर का हरामजादा है। वो अपनी बीवी यानी मेरी माँ को राजीव अंकल को सौंप चुके है। शायद राजीव अंकल ने ही पापा को मकान बनाने के लिए पैसे दिए और इस वजह से वो मेरी मम्मी की चुदाई करते हैं। उसपर से मेरी मम्मी भी एक नम्बर की चुड़क्कड़ है वो भी बड़े मजे से चुदवाती है क्यों की पापा का लौड़ा छोटा है क्यों की ये बात मैं कई बार मम्मी के मुँह से सुन चुकी हूँ। रात में कई बार कहते सुनी हु नहीं छुड़वाना ऊँगली जैसे लौड़े से।

अब मैं कहानी पर आती हूँ। एक दिन की बात है। मेरे पापा और मेरी छोटी बहन दोनों बुआ के यहाँ चले गए थे। और मैं और मेरी माँ दोनों घर पर थे। मेरी दोस्त का बर्थडे था इसलिए मैं अपने दोस्त के यहाँ चली गई थी। रात को करीब ग्यारह बजे आई जब अंदर आई तो देखि मेरी माँ आह आह आह आह कर रही थी। मैं डर गई लगा की मम्मी कराह रही है उनका तबियत ख़राब हो गया। पर जैसे ही उनके कमरे की खिड़की के पास पहुंची तो दंग रह गई।

मम्मी को राजीव अंकल चोद रहे थे। मम्मी अपने पैरों से राजीव अंकल को जकड़ी हुई थी और मम्मी अपने दोनों हाथ पलंग में बंधी हुई थी। और राजीव अंकल जोर जोर से पेल रहे थे और चूचियां दबा रहे थे।

मैं वही पर स्टूल पर बैठ गई चुपचाप अँधेरे में और मजे लेने लगी। मैं अपना हाथ अपने चूचियों पर रख ली और हौले हौले से प्रेस करने लगी। मम्मी की आह जब निकलती थी तब तब मेरी चूत से गरम पानी निकलती थी। जब जब अंकल मम्मी की चूत माँ धक्के देते थे। चार आवाज निकलती थी पहले से बेड की आवाज चु फिर मम्मी की हाय अंकल ओह्ह्ह और मेरी आ उच्च। दोस्तों मैं तो पानी पानी हो रही थी। मेरा पूरा शरीर गरम हो गया था। मेरी चूत गीली हो गई थी।

मम्मी अब ऊपर आ गई और अंकल निचे, अब मम्मी अंकल के लौड़े पर बैठ गई और पूरा लौड़ा मम्मी की चूत में समा गया। मम्मी बहुत खुश लग रही थी वो अपना बाल खोल दी। और अंकल मम्मी की बूब को जोर जोर से मसल रहे थे। मम्मी भी खूब मसलवा रही थी।

मम्मी अब उठ उठ पर बैठ जाती और पूरा लौड़ा चूत में समा जाता। मम्मी जोर जोर से चुदवाने लगी और अंकल जोर जोर से निचे से धक्के देने लग्गे। मम्मी ऐसी लग रही थी क्या बताऊँ कभी तो अपना होठ चाटती कभी खुद ही अपना बूब्स दबाती। कभी नशीली आँखों से अंकल को देखती।

मैं पागल रही रही थी। वो सब देख देख कर। दोस्तों अंकल अब मम्मी को घोड़ी बना दिए और अब गांड के तरफ से चूत में पेलने लगे। दोस्तों ऐसा लग रहा था की मैं भी ज्वाइन कर लूँ। मैं अपने आप को संभल नहीं पा रही थी।

करीब दस मिनट बाद दोनों शांत हो गए। मैं जाने लगी तो अंकल बोले आज रात चाहे तो तू पचास हजार रुपया कमा सकती है। मैं रुक कर सुनने लगी क्या बोल रहे हैं। वो मम्मी बोली वाओ कैसे बताओ आप जो कहोगे वही करुँगी गांड मारना है तो मार लो मुँह में अपना वीर्य डालना है तो डाल लो जो मर्जी कर लो।

तो अंकल बोले अरे पहले मेरी बात तो सुनो। पचास हजार के लिए काम भी थोड़ा बड़ा है। मम्मी बोली बोलो जो भी है करुँगी। तभी अंकल पांच सौ का बंडल मम्मी को दे दिया। मम्मी का ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा। बोली अब काम बताओ

अंकल बोले डॉली का नथ उतारनी है। मम्मी बोली नहीं नहीं बेटी को नहीं अभी वो सिर्फ अठारह साल की है। मुझे चोद लो पर उसे नहीं। तभी अंकल बीस हजार और निकाले और बोले ये लो अब मना नहीं करना।

मैं सोच रही थी मम्मी हां कर दे। तभी मम्मी बोली मैं नहीं बोलूंगी तुम खुद ही बोलना। वो ऊपर कमरे में होगी। मैं भाग कर ऊपर कमरे में चली गई।

दस मिनट बाद ही अंकल मेरे कमरे में आ गए। मैं चुपचाप लेती थी। वो बोले डॉली सो गई क्या मैं अपना आँख बंद कर ली। वो मेरे बेड पर आकर बैठ गए। मैं बर्थडे पर सजी हुई थी आँख में काजल थे मेकअप और अच्छे से बाल भी बाँधी हुई थी।

वो मेरे होठ पर अपना ऊँगली रख दिए। धीरे धीरे वो मेरी चूचियों पर हाथ फेरने लगे। धीरे धीरे वो मुझे सहलाने लगे। और मैं आँख खोल कर उनको देखि तो वो बोले मैं दस हजार तुम्हे दूंगा। अगर आज रात खुश कर दो तो। मैं बोली मम्मी तो वो बोले वो सो चुकी है।

मैं मुस्कुरा दी और वो फ़िदा हो गए।

अब वो मुझे चूसने लगे गाल से लेकर होठ से लेकर चूची से लेकर पेट से लेकर जांघ से लेकर पेअर के अंगूठे तक। मैं पहले से ही गरम थी। और उन्होंने अब मेरे शरीर में आग लगा दिए।

वो मेरे कपडे उतार दिए। और मेरी चूत को चाटने लगे। वो मेरी चूचियां दबाने लगे। मैं आह आह करने लगी मेरे होठ सूखने लगे। चूत गीली हो रही थी और वो चाट रहे थे गरम गरम नमकीन पानी।

अब उन्होंने बिना देर किये मेरी छोटी चूत पर अपना लौड़ा रख कर घुसाने लगे पर जा नहीं रहा था। वो दो तीन बार कोशिश किये और अपना लौड़ा मेरी चूत में घुसा दिए।

मैं दर्द से कराह उठी चूत फट चुकी थी। अब वो जोर जोर से धक्के देने लगे पर मुझे दर्द हो रहा था। वो मेरी चूचियों को सहलाते हुए चोदने लगे।

धीरे धीरे मेरा दर्द खत्म हो गया और अब मैं भी उनको साथ देने लगी। मैं भी दो तीन पोज में उनको ऑफर की चोदने उन्होंने मना नहीं किया और वैसा ही किया।

रात करीब तीन बजे तक वो मुझे चोदे और मैं चुदी। खूब मजे लिए और दिए।

फिर मैं काफी तक चुकी थी और सो गई। जब सुबह उठी तो मम्मी मेरे लिए चाय लेकर आई और अंकल सोफे पर बैठ कर चाय पि रहे थे। फिर हम तीनो मिलकर चाय पिने लगे। हम तीनो ही एक दूसरे को देख रहे थे।

मेरी छोटी बहन चुड़क्कड़ नंबर वन एक सच्ची कहानी(Opens in a new browser tab)

खूबसरत पड़ोस वाली भाभी की चुदाई 1

devar bhabhi sex
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

सभी दोस्तो को हर्ष का नमस्कार में फिर आज आप के लिए नई कहानी के साथ हाजिर हूं।
यह कहानी 8 महीने पहले की है मेरे घर के पास ही एक भाभी रहने आई उसके साथ ही उसकी 2 साल की बच्ची भी थी जबसे वो हमारे घर के पास रहने आई मेरी नजर तब से उसके ऊपर थी उसका गोरा रंग भूरे बाल सुन्दर चेहरा अच्छी और बड़ी आंखें उसकी लम्बाई 5 फिट 3 इंच थी उसका फिगर 36-30-36 था उसकी चूचियां बहुत सुंदर और गोल साईज में थी उसकी गांड़ लहराती हुई चुलबुली थी। मेरी गली में हर आदमी उसे पाना चाहते थे मगर किस्मत मेरी लगी वह बहुत मिलनसार और रहन-सहन में फैशनेबल थी। वह एक निजी कंपनी में काम करती थी मगर बच्चा होने के बाद बच्चे की परवरिश के कारण उसने जॉब से रिजाइन दे दिया। उसका पति एक सरकारी ऑफिस में काम करते थे जो की दूसरे शहर में रहते थे

इसलिए उसका पति हफ्ते में 2 दिन ही घर पर आता था। उसका नाम टीना था आप लोग सोच रहे होगे की उसकी सुंदरता की भी में ज्यादा ही तारीफ कर रहा हूं। लेकिन सच में वह बहुत सुंदर थी में उसके करीब जाने लगा क्योंकि वो मेरी पड़ोसी थी तो उसका मेरे घर आना जाना लगा रहता था तो हमारी बातचीत हो जाती थी। बाद में हमारी अच्छी दोस्ती भी हो गई में भी अक्सर उसके घर जाता था जब मेरे पास समय रहता एक बार जब में उसके घर गया तो उसने मुझे बच्चे को संभालने के लिए कहा (भले ही वो सो रहा था)

वह घर का कुछ समान लेने मार्केट गई थी मैने हा कहा में उसके घर में अकेला था तो सोचा क्यों उसका घर देखा जाए उसके घर में घूमते हुए में एक कमरे में गया वहां बहुत सारी अच्छी चीजे पड़ी थी मैने वहा रखा एक दराज खोला तो उसमें एक कंडोम पड़ा था शायद उसका पति लाया हो फिर उसके बेडरूम में गया तो वहा मुझे कुछ गंदे कपड़े जो धोने के लिए रखे होगे उसने कुछ सेक्सी ब्रा और पेन्टी एक नाइटी और कुछ अन्य कपड़े थे .

मैने उसकी पेंटी को उठा कर सूंघा क्या मस्त खुशबू आ रही थी जिससे में मदहोश हो रहा था मैने वापिस उसकी पेंटी जहां पड़ी थी वहीं रख दी और आगे मैने वो देखा जिसकी में कल्पना भी शायद करता मुझे एक डिल्डो वाइब्रेटर दिखा शायद वह अपनी पति कि गेर हाजिरी में वह अपनी चुद की आग इससे ठंडी करती है।

और उस समान के साथ एक टेबलेट पड़ा था मैने उसे ओपन कर उसकी और उसके पति कि सेक्स चैट पड़ी मगर मुझे ऐसा लगा ये गलत है किसी की पर्सनल मेसेज नहीं देखने चाहिए मगर मैने उसके चेट में उसके पति का लंड कि फोटो देखी तो उसके पति का लंड बहुत छोटा था में सोच रहा था कि सुंदर औरत को छोटे लंड वाला पति मिला जब ही उसके घर में डिल्डो पड़ा है।

फिर में वापिस अपनी जगह पर आकर बैठ गया थोड़ी देर में भाभी भी आ गई और वहा से में अपने घर अागया एक दिन ऐसा हुआ कि पास ही मार्केट से पैदल घर अारहा था कि रास्ते में मुझे भाभी दिखी साथ ही गोद में उसकी बच्ची भी थी और दोनों हाथ में सामान था। इसलिए ये सोच कर में भाभी की मदद करने उनके पास गया और कहा क्या भाभी पैदल जा रहे हो इतना सामान लेकर मुझे बोल दिया होता तो में गाड़ी से लेकर चलता आप को।

भाभी ने कहा मार्केट पास ही था तो सोचा पैदल ही लेकर आजाऊ सामान दो मैने कहा लाओ भाभी सामान में लेकर चलता हूं घर मगर उसने मना कर दिया नहीं बहुत भारी है में आप को कोई तकलीफ़ नहीं देना चाहती मगर मेने अपनी दोस्ती की कसम दी तब उसने मेरी बात मानी वह अपनी बच्ची को गोदी में से उतारने के लिए जैसे ही झुकी लेकिन बच्ची आसानी से गोदी में से उतरने के लिए तेयार नहीं थी सारी दोस्तो बताना ही भूल गया उसने क्या पहना था।

उसने दुपट्टे के साथ एक गहरा वी-कट सलवार पहना था। जैसे ही उसने बच्ची को नीचे उतारा बच्ची ने उसके सलवार के एक किनारे को पकड़ लिया और उसे नीचे खींच दिया क्योंकि उसके दोनों हाथ में सामान थे इसलिए जब तक उसने वापिस दुपट्टे को पहना जब तक मैने उसके दोनों चूचियों के बीच की लकीर और क्या गोरी चूचियां थी जो बहार आने के लिए मचल रही थी। उसने काले रंग कि ब्रा पहनी थी उसकी आधी चूचियां मुझे दिख रही थी

जैसे तैसे में अपने आप को कंट्रोल कर रहा था। मैने उसका सामान उठाया और उसने बच्ची को वापिस गोद में लिया और हम घर की तरफ चल दिए  जब हम उसके घर पहुंचे फिर से बच्चे को नीचे उतारने के लिए झुकी ताकि दरवाजा खोलने के लिए चाबी निकाल सके मगर फिर से उसकी बच्ची ने इस बार सलवार पकड़ खींचा तो उसके कुछ ऊपर के बटन खुल गए उसी हालत में उसने दरवाजा खोला और अपनी बच्ची को अंदर ले गई मैने उसका सामान किचन में रखा वह अपनी बच्ची को सुलाने की कोशिश कर रही थी वह कुछ समय में सो गई बच्ची को सुलाने के बाद वहा से उठ कर मेरे पास आई और कहा आप यहां बैठो में चेंज कर के आई में सोफे पर बैठा मगर मैने देखा कि उसने अपने बेडरूम का दरवाजा ठीक से बंद नहीं किया है

में थीरे से दरवाजे के पास गया और अंदर झांककर देखा तो उसने अपने कपड़े पूरे उतार दिए थे वो रूम में नंगी खड़ी आइने में अपने आप को देख रही थी उसके बूब्स चमक रहे थे में उनको देख कर हैरान था कि क्या मस्त बड़े चूचियां थी चूचियों के ऊपर गुलाबी निपल्स और भी सुंदर लग रहे थे उसने एक हाथ से अपनी चूचियां सहलाई और दूसरे हाथ की उंगली को चुद के अंदर बहार करने लगी जिससे उसकी तेज चलती सासो की आवाज आ रही थी।

उसी समय मैने भी अपना लंड पेंट में से निकाला और थीरे से मुठ मारने लगा मगर उसके मस्त बदन को देख कर अपने आप पर काबू नहीं रख सका और एक आवाज के साथ मेरा भी थोड़ा बहुत माल निकलने लगा उसने आवाज सुन ली थी वह तुरंत मेरे पास आई और मेरे लंड को कस कर पकड़ लिया उसने तुरंत मेरे माल को लंड के अंदर ही रोक लिया मैने उसके चेहरे को देखा तो उसके चेहरे पर एक मुस्कान थी भाभी ने कहा तुम आज कल के लड़के बहुत कामुक होते हो तुम्हे पता नहीं किस समय और कब क्या करना है ये तुम्हारा माल बहुत ज्यादा कीमती है इसे यूहीं बेकार मत करो


दोस्तो आगे क्या होगा ये में नेक्स्ट भाग में पता चलेगा की भाभी सच में चदाई चाहती है या सिर्फ मुझे परेशान कर रही है आप को मेरी नई कहानी कैसी लगी और नॉनवेज स्टोरी . कॉम का शुक्रिया जो मेरी स्टोरी आप तक पहुंचाते है जिससे आप फेन का प्यार मुझे मिलता रहता है और एक बात दोस्तो कई मेरे फेन मुझसे आंटी या भाभी के नंबर मागते है तो सॉरी फेन में किसी के नंबर नहीं दे सकता जैसे आप मेरे दोस्त है वो भी मेरे दोस्त है और दोस्तो को बदनाम नहीं किया जाता और उनको कोई तकलीफ़ हो ये दोस्ती का उसूल नहीं है इसलिए कुछ चीजे प्रायवेट रहे तो अच्छा है
next part 2
[email protected]

यादगार सफर में अंजान कि चुद का मजा

anjan ki chudai
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

दोस्तो में हर्ष फिर एक नई घटना को लेकर हाजिर हूं।
दोस्तो ये कहानी नंबर के महीने में हुई थी। जब में अपने दोस्तो के साथ मुंबई कि यात्रा पर था। जैसा की में सेक्स को एक कला के रूप देखता हूं इसलिए जिसके भी साथ सेक्स करता हूं उसकी संतुष्ट करने की कोशिश जरूर करता हूं। हम दोस्तो ने इंदौर से ही सेकेंड ऐसी का टिकट लिया था मेरे दोस्तो को तो एक साथ ही बर्थ मिली मगर मुझे लास्ट कोन में बर्थ मिली हमारे सामने कोई गुजराती फैमली बैठी थी.

उस फैमली में मेरी नजर नेहा पर गई जिससे देखकर लगता था कि उसकी हाल में ही शादी हुई है क्योंकि उसके हाथ की मेहंदी और चेहरे का निखार बता रहा था। उसका फिगर भी बहुत मस्त था 32 के गोल बूब्स 30 की पतली कमर 38 के बम नेहा की बर्थ उसी कोच में थी जहां मेरी बर्थ थी उस को देखने के बाद मुझे उसके साथ सेक्स करने का मन करने लगा उसने लाल रंग का शार्ट पहन रखा था जिसमें से उसकी पेंटी मुझे दिखाई दे रही थी इसी बीच नेहा कुछ बेग सीट के नीचे रख रही थी जिससे उसकी गेंद मुझे दिखाई दे रही थी और कुछ सामान अपने बर्थ पर ले जाने वाली थी वो अपने बेग को नीचे बैठ कर रख रही थी

तो मैने सोचा क्यों ना एक बार इस पर कोशिश की जाए क्या पता ये सफर कुछ यादगार हो जाए मैने सबकी नजर से बचकर उसके बूब्स को दबा दिया उसने मेरी तरफ गुस्से देखा तो मगर फिर हंसकर उठी और अपनी सीट पर जा रही थी में भी अपने दोस्तो से विदा लेकर अपनी सीट पर आगया जैसे ही में अपनी सीट पर बैठा उसकी और मेरी नजर तो वो मुस्कुराई लेकिन इसबार थोड़ा नटखट पन था। बर्थ इतने भरे नहीं थे इसलिए मैने उससे बातचीत शुरू की आप कहा से और कहा जा रहे है बातचीत में हम दोनों एक दूसरे के साथ का मजा ले रहे थे मैने उसकी शादी के बारे में पूछा तो उसने कहा उसकी शादी एक नौसैनिक से हुई है उसकी शादी को सिर्फ एक हपता हुआ था

कि उनको नोकरी से बुलावा आया तो वो चले गए जल्द ही वापस आयेंगे अब शाम के सात बज रहे थे हम ने स्नेक्स शेयर किया अचानक नेहा ने मुझसे पूछा वो कैसे थे उसने जो पूछा में उलझन में था उसका क्या मतलब है उसने मेरी आंखो में देखा और पूछा अभी कुछ देर पहले जो तुमने दबाकर देखा था वो कैसे थे में उसकी बात सुनकर हैरान भी था मगर मन में एक खुशी भी थी कि आज इसको ट्रेन में ही चुदाई करनी है। फिर उसने कहा तुम चुप क्यों हो क्योंकि वो जानती थी कि मैने जानबूझ कर उसके बूब्स दबाए थे वो मुझे ग्रीन सिग्नल देरही थी अपनी चुदाई का मैने उससे पूछा कि क्या में आप के बूब्स को टच करके महसूस कर सकता हूं

उसने हा कहा और खुद मेरा हाथ पकड़ अपने बूब्स पर रखा में थीरे से उसके बूब्स दबा रहा था जिससे वो गरम हो रही थी मेरा लंड थीरे से अपने आकार में आरहा था उसने ये देखा और अपने हाथ से थोड़ा मेरे लंड को दबाया मेरे मुंह से एक आह निकली अचानक उसने अपने होठ से मेरे होठों को चूमने लगी वाऊ क्या मस्त एहसास था। उसका अंदाज ये बता रहा था कि उसकी चुद में भी आग लग रही थी चुदाई कि लेकिन हमें इंतजार करना था सही मोके का की चुदाई कहा की जाए हमारे लिए बेस्ट जगह शौचालय था हमने रात का खाना खाया उसके पिताजी भी आए उसका हाल चाल पूछ कर चले गए थोड़ी देर में ट्रेन की लाईट ऑफ हो गई लगभग रात के 12:30 बज रहे थे उसने मेरे कान में फुसफुसाया कि तुम्हारा लंड में अपनी चुद ने महसूस करना चाहती हूं और फिर मेरा हाथ पकड़ कर शौचालय ले गई और अंदर से दरवाजा बंद कर लिया हम दोनों एक दूसरे को चूमते हुए एक दूसरे की जीभ को आपस में लड़ रहे थे दस मिनट तक उसे खींच कर चूमा। इसी के साथ-साथ मैं उसके मम्मों को भी दबाने लगा।


फिर मैंने उसके चूचुकों को मुँह में रख लिया और चूसने लगा। वो ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ कर रही थी, मैं उसे चूसता ही रहा। उसकी चूत बहुत गरम हो गई थी तो उसकी पेंटी गीली हो चुकी थी। मैंने उसकी पेंटी निकाली और चूत देखी तो मजा आ गया, उसकी चूत एकदम चिकनी और साफ़ थी। मैने उसे कंपौड़ पर बैठाया और उसकी चिकनी चूत को चाटने लगा। उसे भी मजा आने लगा और वो बस ‘आह.. आह.. और जोर से हम्म..’ ऐसी आवाजें निकालने लगी। थोड़ी देर बाद चूसने के बाद वो कहने लगी- बस अब और नहीं रहा जाता.. पेल दे लंड.. प्लीज मेरी प्यास बुझा दे। मैंने भी देर करना जायज नहीं समझा और अपनी पैन्ट और कच्छा नीचे कर दिया।

मैंने लपलपाता लंड उसकी कुलबुलाती चूत के मुँह पर सैट किया और जोर लगाने लगा। अभी थोड़ा सा लंड ही अन्दर गया था कि वो मना करने लगी। शायद उसके पति ने उसको अच्छी तरह से उसकी चूत को ज्यादा नहीं चोदा था। मैंने थोड़ा जोर लगा कर अपना पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया और थोड़ी देर ऐसे ही पड़ा रहा। वो दर्द से सिसिया रही थी.. तो मैंने हाथ बढ़ा कर उसके दोनों मम्मों को पकड़ लिया और मुँह में लेकर चूसने लगा। उसको कुछ राहत मिली और

उसने कमर हिलानी शुरू कर दी। मैंने भी धक्के लगाने शुरू कर दिए। कुछ ही देर में मैंने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और तेज़ी से लंड अन्दर-बाहर करने लगा। अब नेहा को पूरी मस्ती आ रही थी और वो नीचे से चूतड़ उठा-उठा कर हर धक्के का जवाब देने लगी। उसकी चूत में मेरा लंड समाया हुए तेज़ी से ऊपर-नीचे हो रहा था। साथ ही ट्रेन में धक्कों के साथ मस्त चुदाई चल रही थी और वो बोले जा रही थी- हम्म.. और जोर से.. ओह्ह.. जानू.. जान निकाल दो.. आज तो काफी तंग कर रखा है इस चूत ने.. पूरा डाल दो ओह्ह आह्ह्ह.. मैंने लगातार कई मिनट तक उसे धकापेल चोदा। वो दो बार झड़ चुकी थी.. अब मैं भी झड़ने वाला था। मैंने उससे पूछा- कहाँ निकालूँ? उसने कहा- मुझे चखना है। मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाल कर उसके मुँह में दे दिया और थोड़ी देर बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गया। वो मेरा सारा पानी पी गई और मेरे लंड को चूस-चूस कर साफ़ कर दिया। मगर मेरा मन नहीं भरा था इसलिए मैने उसे वापिस अपने से चिपका लिया, और उसकी गर्दन.. कंधे.. सभी को चूम रहा था.. चाट रहा था।

वो मदहोश हुए जा रही थीं.. फिर मैं मम्मों को दबाने लगा। दोस्तों क्या मज़ा आ रहा था.. क्या बताऊँ.. वो भी ‘आहें..’ भरने लगीं ‘हर्ष.. आआआआहह.. कितनी प्यारे हो.. आहह.. उउउम्म्म्म.. बहुत मज़े आ रहे हैं! में जीभ से उनके निप्पलों को छू रहा था। उनकी उत्तेजना बढ़ रही थी। फिर मैंने उसके मम्मों पर अपना मुँह लगा दिया.. और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा। वो मदहोश होने लगी थीं। मैं एक निप्पल को काट भी रहा था.. साथ ही मैं अपना एक हाथ नीचे ले गया नेहा कि चूत को भी सहला रहा था। वो मदहोश हो रही थीं। मैं अब नीचे को आने लगा.. मम्मों को चूसते हुए.. पेट से नाभि को चूमते हुए चूत तक आ गया और फिर से चूत को चूसने लगा।

मैं उनकी चूत के दाने को जीभ से टुनया रहा था.. और वो उत्तेजना से उछल रही थीं। कुछ पलों बाद मैंने उन्हें 69 की पोजीशन पर आने को कहा, वो तुरंत आ गईं। अब वो मेरा लम्बा और मोटा लण्ड चूस रही थीं.. मैं उनकी गुलाबी चूत में जुबान से कबड्डी खेल रहा था। मेरा लण्ड टाइट हो रहा था। मैंने कहा- अब ज़्यादा नहीं चूसो नेहा.. आज इसको बहुत रस निकालना है। मैंने उनको नीचे लिटाया..मैंने उस मस्ती वाली गुफा पर लण्ड टिकाया और करारा शॉट लगा दिया।

वो उछल पड़ीं.. पर इस बार ज़्यादा दर्द नहीं था.. क्योंकि ये नेहा चूत में मेरे लौड़े की दूसरी बार ठोकर थी। वो ‘आआहह.. ओउउम्म्म्म..’ की आवाज़ निकाल रही थीं.. उनको भी मज़े आ रहे थे। मैं भी फुल स्पीड में चूत चोदे जा रहा था.. वो भी नीचे से अपनी गाण्ड उछाल कर साथ दे रही थीं। अब मैंने पोज़ चेंज किया और उनको गोद में उठा कर चोदने लगा और उनके मम्मों को चूसने लगा। अब मैंने उन्हें घोड़ी बनाया और धकापेल चुदाई चालू कर दी.. इसके बाद मैंने नेहा और भी कई तरह चोदा काफी लम्बे समय तक उनकी चूत को चोदने के बाद मैंने कहा- जान.. अब मैं आने वाला हूँ.. माल कहाँ निकालूँ। वो बोलीं- चूत में ही निकाल दो..मैंने कहा- ओके मेरी जान.. मैंने अपना सारा पानी उनकी चूत में ही निकाल दिया और उनके बगल में बैठ गया.. उन्हें किस करने लगा। कुछ देर बाद मैंने देखा तो डेढ़ बजे का समय हो रहा था। वो बोलीं- चलो अब सो जाते हैं।


मैंने कहा- जान.. ऐसे-कैसे सो जाऊँ.. अभी तो एक छेद बाकी है उसने कहा कोन सा मैंने कहा- आज मुझे आपकी गाण्ड मारनी है.. जो अब तक बिल्कुल फ्रेश है। वो बोलीं- नहीं.. हर्ष ये नहीं.. सुना है बहुत दर्द होता है।
मैंने कहा- जान.. नहीं होगा.. मैं हूँ ना.. ट्रस्ट मी। वो बोलीं- पहले कभी किया नहीं है हर्ष। मैंने कहा- यादगार सफर में कुछ तो नया होना चाहिए वो काफ़ी देर बाद वो तैयार हुईं.. मैंने उंगली से गाण्ड के छेद में अन्दर-बाहर करने लगा। वो दर्द मिश्रित मजे से पागल हुई जा रही थीं और बोल रही थीं- उफफफ्फ़.. हर्ष.. तुम बहुत वो हो.. आहह.. बहुत मज़े देते हो.. मैंने गाण्ड सुहागरात को पति को भी नहीं दी.. पर तुमने मुझे पटा ही लिया.. पता नहीं क्या है तुममें.. आआआहह.. अब पेल दो। मैं उनकी गाण्ड में उंगली किए जा रहा था।

अब मैंने अपना लम्बे और मोटे लण्ड को उसकी गाण्ड के छेद पर सुपारा धर के धक्का लगा दिया। मेरा मोटा लण्ड उनकी छोटी सी कुँवारी गाण्ड में जा ही नहीं रहा था.. फिसल रहा था मैंने अपने दोनों हाथों से उनकी गाण्ड को कसके फैलाया.. फिर लण्ड को फंसा कर दबाव दिया.. तो लौड़ा गाण्ड में घुस गया। लण्ड अन्दर जाते ही वो एकदम दर्द से चिल्ला उठी। वो तो अच्छा है मैने एक हाथ से उसका मुंह बंद कर रखा था नहीं तो ट्रेन में हमारी चुदाई कि कथा सब को मालूम पड़ जाती। उसे बहुत दर्द हो रहा था और आँखों से आंसू आ रहे थे। गाण्ड बहुत ज़्यादा ही टाइट थी.. मैंने लण्ड निकाल लिया और फिर गाण्ड के छेद पर लगा कर धक्का मार दिया। लण्ड का सुपारा अन्दर चला गया.. पर इसे बार दर्द थोड़ा कम हुआ था.. पर थोड़ा अब भी हो रहा था। मैं वैसे ही कुछ देर रुक गया.. उनके ऊपर उनकी पीठ और गर्दन पर चुम्बन करने लगा। वो भी दर्द भूल कर उत्तेजित होने लगीं। बोलीं- आआहह उफ्फ़.. ईई.. फाड़ दो आज मेरी गाण्ड.. मुझे आज सुख दे दो.. मुझे एक औरत होने का।


मैंने बोला- जरूर मेरी जान.. मैंने फिर से धक्का दे दिया.. मेरा आधा लण्ड अन्दर चला गया.. वो दर्द से तिलमिला रही थीं.. पर मेरी चुम्मियों और प्यार के कारण उनको ये सब सहने का हौसला मिल रहा था।अब मैंने अंतिम धक्का मारा और गाण्ड की जड़ तक लण्ड घुसेड़ दिया। उन्होंने मेरा पूरा का पूरा लण्ड अपनी गाण्ड में ले लिया था। उनकी गाण्ड मेरे लौड़े को खा सी गई थीं। अब मैंने धीरे-धीरे लण्ड आगे-पीछे करना चालू किया। उन्हें भी मस्ती आ रही थी.. वो बोल रही थीं- आअहह.. चोद दो.. फाड़ दो.. मैंने भी स्पीड बढ़ा दी और तेज चालू हो गया। उसे आज चुदाई में खूब मज़ा आ रहा था। मैंने उनको घोड़ी बना कर गाण्ड मारे जा रहा था.. ज़ोर-ज़ोर से जोश में उनके चूतड़ों पर थप्पड़ भी मार रहा था। मैंने बहुत देर उनकी गाण्ड मारी.. चोद-चोद कर लाल कर दी।अब मेरा भी निकलने वाला था, वो बोलीं- अबकी बार गाण्ड में ही निकालो। मैंने सारा रस उनकी गाण्ड में निकाल दिया और फिर लण्ड निकाल कर मुँह में दे दिया, मैंने कहा- चूस-चाट कर साफ़ करो।

वो पागलों की तरह लण्ड को चूसे जा रही थीं.. मेरा पूरा लण्ड पर लगा माल चाट कर वो बेहिचक पी गईं। उस रात ट्रेन में मैंने बहुत मस्ती की.. मैंने उनको सोने नहीं दिया। सुबह नेहा ने मुझसे बोला- मेरी लाइफ की ये सुहागरात जो इतनी सेक्सी और संतुष्ट करने वाली थी। इसे कभी भुला नहीं पाऊगी थोड़ी देर में मेरा ठिकाना आगय तो उससे विदा लेकर अपने दोस्तो के साथ चला गया दोस्तो कैसी लगी मेरी नई कहानी।
मेरी कहानी पर इस बार भी भाभियां आंटियां और चिकनी चूत वाली लड़कियां आप के कमेंट का इंतजार रहेगा।
[email protected]

आधी रात तक मम्मी चुदी आधी रात के बाद मैं पापा के दोस्त से

अंकल सेक्स
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां

एक कहानी जो मैं भी सुनाने जा रही हूँ। ये कहानी12 जनवरी की है। कैसे मेरे पापा के दोस्त ने आधी रात तक मम्मी को चोदा उसके बाद मुझे। मुझे थोड़ा भी शर्म नहीं आ रही है इस कहानी को शेयर करते हुए। कल की चुदाई याद रहेगी ज़िंदगी भर। आखिर ये सब कैसे हुआ क्यों हुआ वो सब बताने जा रही हूँ।

जब मैं दिल्ली में रहती थी और पापा दिल्ली में ही जॉब करते थे। पापा के एक दोस्त थे मनोज अंकल बहुत ही अच्छे इंसान था। मेरे घर में काफी आना जान था उनका पर हम लोग उनके घर कम जाते थे क्यों की आंटी को लगता था मेरी मम्मी के साथ मनोज अंकल का शारीरक सम्बन्ध है। पर मेरे पापा और मैं हमेशा मम्मी को सपोर्ट करते थे। क्यों की मुझे पता था उस समय पापा को भी बिश्वास था की मम्मी ऐसा कुछ भी नहीं करेगी। पर दोस्तों आज तो मैं यही सोच रही हूँ किसी पर बिश्वास नहीं करने चाहिए।

पापा तो अब दुबई में रहते हैं और अंकल भी अब दुबई ही जा रहे हैं। कल उनकी फ्लाइट थी लखनऊ से तो कानपूर से लखनऊ एक दिन पहले ही आ गए। हम तीनो मिलकर पुरानी बातों को शेयर किये। खाना खाये मजे किये। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। अंकल मेरे लिए एक मोबाइल भी लाये मुझे बहोत ख़ुशी हुई।

दिन बिता रात को खाना खाकर मैं नए मोबाइल की सेटिंग देखने लगी अपने नंबर सारे सेव करने लगी। काफी रात हो गई थी। मैं मगन थी मोबाइल देख कर उसके बाद मैं अपने मोबाइल पर नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर कहानियां भी पढ़ी। मुझे बहुत ही ज्यादा हॉट लगता है इस वेबसाइट की सभी कहानियां। जब मैं पेशाव करने उठी तो दंग रही थी। अंकल मम्मी को चोद रहे थे दरवाजा तो बंद था पर खिड़की मम्मी ने गलती से खुली ही छोड़ दी थी। नाईट बल्ब जल रहा था इस वजह से सभी कुछ साफ़ साफ़ दिखाई दे रहा था। मम्मी को वो चोद रहे थे मम्मी की चूचियों को मसल रहे थे। मम्मी अपने पैरों से उनको फँसाई हुई थी और अंकल जोर जोर से चोद रहे थे हरेक धक्के पर मम्मी हाय हाय कर रही थी वो बहुत ही ज्यादा सेक्सी आवाज निकाल रही थी। सच पूछिए तो मुझे लगा मम्मी को कितना मजा आ रहा होगा।

दोस्तों मैं खुद पानी पानी हो गई। मुझे लगा की काश मुझे भी ऐसा मौक़ा मिलता क्यों की अठारह साल एक जनवरी को ही लगा है तू अब मुझे भी लंड का मजा लेने चाहिए। दोस्तों ये सोचकर ही मेरे पुरे शरीर में सिहरन पैदा हो रहा था। तभी मम्मी बैठ गई और अब अंकल लेट गए। और मम्मी अंकल का लौड़ा पकड़ कर चाटने लगी। अंकल मम्मी की चूचियां छू रहे थे। और मम्मी चाट रही थी उनके लंड को। दोस्तों उसके बाद वो ऊपर बैठ गई और लौड़ा पकड़ कर अपने चुत में ले ली और बैठ गई। उसके बाद गांड हिला हिला कर लौड़ा अंदर बाहर कर रही थी। मम्मी अंकल की छाती को सहला रही थी और अंकल मम्मी की चूचियों को अपने हाथ में लेकर खेल रहे थे।

फिर पांच मिनट के बाद मम्मी घोड़ी बन गई और अंकल पीछे से चोद रहे थे। उसकी समय अंकल ने मुझे देख लिया। मम्मी का फेस दूसरी तरह था पर अंकल मुझे देखे ही जा रहे थे। मम्मी कह रही थी आपके बिना और मेरा कोई नहीं जब आप मुझे पूरी जवानी चोदे हो। तो अब चालीस की हो गई हूँ। वैसे हो चोद रहे हो। क्या दम है आपमें। पहले भी आप पहले मुझे चोदते थे उसके बाद घर जाकर अपनी बीवी को चोदते थे। पहला मर्द देखि हूँ जो एक रात में दो दो औरत को संतुष्ट कर देते थे। मैं ये सब बात सुन रही थी। अंकल मुस्कुरा रहे थे थोड़े देर देर में एक थप्पड़ मम्मी के चूतड़ पर मारते और लौड़ा अंदर बाहर करते मम्मी सेक्सी आवाज निकाल रही थी। तभी मम्मी बोली तक गई हूँ। अब मेरे से नहीं होगा। और मम्मी बोली चूत में वीर्य मत डालना आप बाथरूम में जाकर मैथुन कर लो या निकाल लो बाथरूम में।

फिर अंकल लंड मम्मी के चुत से लंड निकाल लिए. और मम्मी तुरंत ही रजाई डाल ली अपने ऊपर। क्यों की मम्मी झड़ गई थी। वो तुरंत ही सो गई। अंकल बाहर आये और मुझसे धीरे से बोले की निकाल दूँ बाथरूम में या तुम मुझ,,,,,,,,,,,,,,, मैं सोची क्या बोलूं मेरी तो चुत गरम हो गया था पानी पानी हो गया था। मैं बोल दि नहीं मत गिराओ। वो बोले ठीक है मैं दस मिनट में आऊंगा। वो बाथरूम गए पेशाव करने और वही दस मिनट लगा दिए। वापस आये तो मैं अपने कमरे में थी। वो मम्मी के पास जाकर दो बार पुकारे पर मम्मी सो गई थी वो कुछ भी नहीं बोल रही थी। अंकल ने बाहर से दरवाजा लगा दिया मम्मी के कमरे का और फिर मेरे कमरे में आ गए।

अब आते ही उनको जवान लड़की मिली थी। ऐसा सौभाग्य सब को नहीं मिलता की अपने से आधे उम्र की लड़की को चोदने का मौक़ा मिले। दोस्तों वो मुझे बाहों में भर कर बेड पर पटक दिए और तुरंत ही सारे कपडे उतार दिए। पहले तो मेरी छोटी छोटी चूचियों को खूब मसला और फिर गांड में ऊँगली की होठ चूसे और फिर लौड़ा चूत पर लगा दिए। दोस्तों अब उनका लौड़ा पहले से भी ज्यादा मोटा हो गया था शायद जवान चुत और चूचियों को देखकर ऊपर से गुलाबी होठ।

दोस्तों अब वो मुझे चोदना शुरू कर दिए मेरे रोम रोम खिल उठा था। चूचियां टाइट हो गई थी चूत से आग निकल रही थी यानी चुत बहुत ही ज्यादा गरम हो गया था। वो मुझे अपने में समेट लिए थे और चुत में लौड़ा दे रहे थे। मेरे मुँह से भी वैसा ही आवाज निकल रहा था जैसे मम्मी का। दोस्तों मैं गांड उठा उठा कर ले रही थी उनके लंड को मैं बार बार आह आह कर रही थी। मजा आ रहा था।

अंकल ने मुझे कामसूत्र के कई स्टेप से रात भर चोदा और मुझे संतुष्ट किया। आज ही वो दुबई के लिए निकल गए है. पर अभी मैं उनको बहुत मिस कर रही हूँ। अब खुद ही किसी लड़के को पटाउंगी ताकि वो मेरी चुत की गर्मी शांत करता रहे। दूसरी कहानी जल्द ही नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम लेके आउंगी। धन्यवाद.

loading...

Online porn video at mobile phone


मम्मी को चुदते देख मेने भी चुदवायापटाकरचुदाईmaushi chut maradibali me cudane ki kahanihotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaकुवारि सेक्स काहनियाhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaगोवा मे चुदाई मौसी कि चुchudwayege bhaiya mota land मोटी गाँड बाली भाभी की कुद्दै हिंदी स्टोरीjija ne sali ke burs ke sare bal kat ke bur ko chuma liya मरे ट्रैन में चुदाईdibali me cudane ki kahaniभाई बहन सास दमाद ओपेन सेकसी बिडीओतेल मालिश करके की माँ आँटी मोशी बहन कि चुदाइ कहानिगे सेकस साईटचोद चोदकरhindisex kananiकिताब देणे के बहाणे से दोस्त के घर जाकर उसकी माँ को चौदा हिंदी सेक्स कहानियांgaram behen ne bhai k kamre mai ja kar land pakda or chudi kathamavsa or mavsi cudai deka cudai kahanechutchudi budi chachi ki bharm se hindiगोवा मे चुदाई मौसी कि चुबुर केसे चोदते है पढणा हेsexy suhagrat ki kahani Mom Dad or me hindi mesanyasi sexi kahaniyapatli a sisterki chudaiबूर की सच्ची कहानीचाचा ने मुझे बहुत चोदाsaalisexstori.cojanbhuj kar bus me chudi hindi storyante ke pas dudh magnegya sexystorexxx रंडि माँ बेटि दौनो को चोदा झाट बाला चुत कहानीमाँ नेँ मेरा लण्ड लिया storiesforplay hota kya hai in hindi xyzbagiche me pregnet ladkio ko ladke chut kar rahe the xxxdibali me cudane ki kahaniwww. xxx. पडोसन ची झवाझवी.comकुवारी सहेली को छुड़वाया हिंदी कहानीmaa beta ghumne gaye goa sex hogaya storieससुर के साथ गंदी कहानीSex bideeo sex nokaraniदीदी को देखा चुदते हुऐdibali me cudane ki kahanihttp://dzudo63.ru/tousatu-meijin/nonveg-stories/page/35/HotSexyStory of brother-sister in hindiदोसत कि मां को उनके बेडपर चोदकर विडीयो बनायाhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayadibali me cudane ki kahani नामर्द पति के कारण मई अपने भाई से चुदाइ करवाई हिंदी में कहानीdibali me cudane ki kahaniboyfriend k dost ne choda hindi storyboor catne vala iglis xxxxhindisexestorymom dad and bro sis sax kahani hindimemothersexstory xnxxdibali me cudane ki kahaniChudai story chamain jati ki ladkiyo ke sathchachisexykahanisalwar fadkar gand mari hindi sex storyhindisexestorydibali me cudane ki kahanihotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayamausasexjija aur m rajai m hot storychutchudi budi chachi ki bharm se hindibeti ke badle sas ne liya lund chudai story in hindiऔरत चडी अडरवियर सेकसी 2020 असलीगोवा मे चुदाई मौसी कि चुभाई ने चोदा कहानीज़ालिम बेटा है तेरा हिंदी सेक्स स्टोरीpatli a sisterki chudaijijasalisexstorysदुध चुची मे बढने पर भाई को दुध पिला कर चुत चोदाxx hide storyghar la maal cudai nonvagdibali me cudane ki kahanihindisexestoryमोटी गाँड बाली भाभी की कुद्दै हिंदी स्टोरीchudai kee manjeelबहन को अपने बच्चे की माँ बनाया Sex storychacha ne choda muze story khel khel medibali me cudane ki kahaniMAMMI NE BHRPUR SECX KIYA DO BETO SEसेक्सी। चुदड मा की कहानीbahan bahai hot istorixx hide storyबहन की चूत चोदकर लाल कर दीdibali me cudane ki kahanisamdhi ji ne meri or meri beti ki chudai ke desi sex storyxxx kahani mausi ji ki beti ki moti gand mari desidade ko choda sexystore