मेरी माँ मेरे सामने ही चुद रही थी पापा के दोस्त से

loading...

मैं 19 साल की हु, मेरा नाम कविता है, मैं दिल्ली में रहती हु, आज मैं आपको अपने परिवार की ही कहानी बता रही हु, मेरी माँ का नाजायज रिश्ता था अरुण अंकल के साथ, और इस रिश्ते को जायज करने बाले भी मेरे पापा ही थे, मैं आज तक समझ नहीं पाई की आखिर ये क्या रिश्ता है, कौन सी बात है, क्या वजह है जिसके चलते मेरे पापा मेरी माँ को शेयर कर रहे है, कौन ऐसा मर्द होगा जो अपनी पत्नी को किसी और मर्द के बाहों में भेजेगा. मैं आपको पूरी कहानी सुनती हु, ये कहानी नहीं मेरे ज़िंदगी का एक पहलु है, ये सच है मैं कसम खाती हु, ये बात किसी और से कह नहीं सकती थी इस वजह से मैं आज नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे दाल रही हु, मैं अपने परिवार का तमाशा भी नहीं बनाना चाहती हु, पर मैं अपने मन में इस बोझ को ज्यादा देर तक नहीं रख सकती, मुझे अपने मन को हल्का करना है. आपसे मेरा नम्र निवेदन है की कोई गलत कमेंट ना करें.

loading...

मेरी माँ की शादी सत्रह साल की उम्र में ही हो गई थी, मैं जल्दी ही हो गई, मेरी पढाई लिखे बहुत अच्छे तरीके से तो नहीं हुई, क्यों की मेरे घर की हालात ठीक नहीं थे, माँ पापा हमेशा लड़ते रहते थे, मैंने जैसे तैसे पढाई अभी तक कर रही हु, मेरी माँ पढ़ी है, वो दिल्ली में ही रह कर पढ़ी है, पर पापा सिर्फ दसवी पास है, मेरा पैतृक गाव वृन्दावन के पास है, मेरे पापा जब दिल्ली में काम करते थे तो मेरी माँ भी शादी के पहले वही पर काम करती थी, दोनों में प्यार हुआ और घर बालों के मर्जी के बिना शादी हो गई, दोनों दिल्ली में ही रहने लगे. आपको मेरी फैमिली का संक्षित विवरण मिल गया है. अब मैं सीधे कहानी पर आती हु.

जब मैं छोटी थी, तो पापा और माँ के बीच में हमेशा अनबन रहता था, माँ और पापा को कभी भी सम्मति से रहते नहीं देखा था, पर पापा उस दिन मम्मी से बहुत ही प्यार से बात करते थे, जिस दिन अरुण अंकल आने बाले होते थे, जब वो घर पे आते थे, पापा मुझे पड़ोस बाले आंटी के यहाँ भेज देते थे, पर मैं बहाना बना के आ जाती थी, जब वापस आती थी तो मुझे अपने माँ पे बहुत तरस आता था, पापा छत पर चले जाते थे, कमरा बंद होता था, चूड़ियों की खनक और आअह आआह आआआह धीरे धीरे धीरे, आआअह आआअह की आवाज अंदर कमरे से आती थी, मैं बहुत परेशान हो जाती थी पर कुछ बोलती नहीं थी, यही सिलसिला चलता रहा. मैं वैसे ही दरवाजा देख कर और वो अवजा सुनकर वापस आंटी के यहाँ चली जाती थी, आती तब थी जब कोई फिर बुलाने आता था, वापस आके मैं माँ को देखती थी, उनके हाथ में कांच की चूड़ियों के निशान होते थे, और कई बार चूड़ियों के टूटने की वजह से जख्म होता था, मैं पूछती थी, की माँ ये कैसे हुआ, तो वो है के टाल देती थी , अरे ये ये तो बेलन से चूड़ियों में लग गया था चूड़ी टूटने की वजह से कांच गड गया था.

मेरा कोमल मन भी सब कुछ समझता था, पर मैं लाचार थी, जहा सावन ही आग लगाये तो कौन बुझाए, यही गाना मुझे याद आने लगता था, जब मेरा बाप ही अपनी पत्नी को गैर मर्दों के पास सेक्स करने के लिए मजबूर करता था, तो मैं क्या कर सकती थी. सिलसिला चलता रहा, एक बार तो हद हो गई, माँ नानी के यहाँ जाने के बहाने वो अरुण अंकल के साथ हनीमून पे गई थी, टाइट जीन्स और शर्ट पहन कर, मेरी माँ देखने में काफी सुन्दर है, काफी हॉट है, पर वो जीन्स वगैरह नहीं पहनती थी, पर उस कुत्ते की वजह से मेरी माँ को उसके साथ हनीमून पे जाना पड़ा, जब माँ वापस आई तो उनके पास महंगे महंगे गिफ्ट थे, गाल में साफ़ साफ़ और दांत के निशान थे. जब वो निशान पापा देखे तो खुश हुए थे बोले थे लगता है सब कुछ अछा रहा, है ना आशा, माँ ने घूरते हुए नजरों से देखि, और बोली हां जब तूने मुझे दलदल में डाल ही दिया तो करें भी तो क्या.

मैं बड़ी हो चुकी थी, अब सब बात और भी साफ़ साफ़ समझने लगी थी, जब पापा ऑफिस में होते तो अरुण अंकल फ़ोन आता था माँ के मोबाइल पे, पर माँ भी उस फ़ोन को उठाने से हिचकिचाती थी, मैं कई बार पापा को बोली की पापा “क्या आपके दोस्त का फ़ोन आते रहता है, माँ परेशान हो जाती है आप मना क्यों नहीं करते है. मैं कुछ साफ़ साफ़ बोल भी नहीं सकती थी, वो बड़े प्यार से मुझे समझा देते थे, और कहते थे की मैं बोल दूंगा की फ़ोन नहीं करने के लिए. एक दिन की बात है, पापा को मैंने अरुण अंकल से बात करते हुए सूना की, अरुण अंकल को कल बारह बजे बुला रहे थे, और कह रहे तो की मैं ऑफिस चला जाऊंगा, और मैं अपनी बेटी को भी कही बाहर भेज दूंगा, कुछ पैसे दे दूंगा और कहूँगा तो शॉपिंग कर आओ, शायद अरुण अंकल बोले ठीक है, और उन दोनों ने बात फिक्स कर ली, हुआ भी यही, पापा ने मुझे हजार के एक नोट दिए और बोले मेरी प्यारी बेटी तू अपने लिए कपडे ले आ, तुम्हे कॉलेज के लिए थोड़े कपडे काम पड रहे है, तू बार बार एक ही ड्रेस को पहनती है.

मैंने समझ गई की मुझे क्यों भेजा जा रहा था, रात में पैसे दे दिए, और सुबह मुझे करीब १० बजे जाना था, मैं भी चली गई, पापा भी चले गए, माँ भी बाजार चली गई, पापा को कहते सुना की तुम १२ बजे से पहले ही आ जाना वो माँ को कह रहे थे, माँ बोली ठीक है, मैं घर से बाहर तो गई पर 11 बजे ही वापस आ गई, और मैं पीछे दरवाजे से कमरे के अंदर आ गई, पीछे का गेट का चाभी मेरे पास था, कमरे में दो दरवाजा था, मैं कमरे में दाखिल हो गई, मैं गेट बंद ही रहा था, माँ के आने की आहात हुई बारह बज चुके थे, मैं तुरंत ही पलंग के निचे हो गई, पलंग थोड़ा उचाई पर था, अंदर अँधेरा था कोई मुझे देख नहीं सकता था, माँ ने दरवाजा खोली और अंदर आई, अरुण अंकल भी साथ थे, दरवाजा बंद कर दी, रूम में लाइट जला ली, उसके बाद अरुण अंकल माँ को अपने बाहों में भर लिया, और कह रहे थे, गजब की चीज हो मेरी जान, तुम मुझे पागल कर दोगी, तेरे बिना मेरी ज़िंदगी कुछ भी नहीं है,

माँ कुछ भी नहीं बोल रही थी, धीरे धीरे मैंने सारे कपडे को निचे गिरते देखा पहले साड़ी, फिर ब्लाउज, फिर ब्रेसियर, फिर पेटीकोट, फिर माँ की पेंटी, उसके बाद बारी बारी से अरुण अंकल के कपडे, दोनों लेंगे खड़े थे, माँ की मोटी मोटी जांघ तक दिख रहे थे, उसके बाद अरुण अंकल, माँ को उठा के पलंग पे लिटा दिए, मेरी कानो में सिर्फ आआह आआअह आआआह, और पलंग की चों चों की आवाज आ रही थी, करीब १ घंटे तक मैंने अपने आप को किस तरह से समझाया क्या बताऊँ, मेरी माँ को एक गैर मर्द चोद रहा था, माँ चुद रही थी, अरुण अंकल जैसे कह रहे थे माँ चुप चाप कर रही थी, और एक जोर सी आह के बाद दोनों शांत हो गए, अरुण अंकल कपडा पहने और, चले गए, माँ रोते रोते एक एक कर के सारे कपडे पहनी, मैं भी अंदर चुपचाप रो रही थी. जब माँ बाथरूम गई तो मैं आने का बहाना किया, माँ बोली आ गई बेटी, मैंने कहा हां माँ पर कपडे नहीं लाई, कोई नै डिज़ाइन नहीं था.

शाम को पापा आये, हस्ते हुए माँ से पूछा सब ठीक रहा, माँ चुचाप रसोई में चली गई और खाना बनाने लगी, पापा को जवाव दिए बिना. अब क्या बताऊँ दोस्तों मुझे समझ अभी तक नहीं आया है की क्या रिश्ता है, ये थर्ड पर्सन क्यों है इन दोनों के ज़िंदगी में, आखिर क्या मजबूरी है, प्लीज मुझे हेल्प करें, बताएं, कमेंट से, प्लीज मैं आपकी आभारी रहूंगी.

loading...

Hindi Sex Story

Hindi Sex Stories: Free Hindi Sex Stories and Desi Chudai Ki Kahani, Best and the most popular Indian top site Nonveg Story, Hindi Sexy Story.


Online porn video at mobile phone


mera friend ny porn storyAntarvasana dahi birthdayकुत्ते ने चौदा भाभी कोचुतड कि कहानी,sex story मेरे चाचा मा कसके ठोकाडाक्टर ने माँ के सामने बेटी को चूदा की XXXकहानियाxxxn kahanie hinde maजिस्म की आग सेक्स स्टोरीdibali me cudane ki kahanidibali me cudane ki kahanipti ne bnya rendi sex storyhotland hindi sexkathadibali me cudane ki kahaniलडकियो की बाँ पेटी खरीदने के बहाने चुडाई की XXXकहानियागोवा मे चुदाई मौसी कि चुchudakd bhanexx hide storyxxx मेरी मम्मी रण्डी निकली 1बुर चोदाई कहानी हिँदी मेँ ड्राईवर और मालकिन के साथhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayadasi capil ke sex store hindमराठी पऱनय कहानीAnjaan aadmi ne meri maa ko choda mere samne sex story sexymamaji and mammy XXX khaniHotSexyStory of brother-sister in hindiबीस इंच का लोडा चुत मेँ घुसानाwww हिँदी कथा सेकस.comgey sex story bap beta nesexvidoes marathi souhagaratkamuta story geeja saleesexy:lesbian:saas:bahu:ki:sexy:store:hinde:xxx bibi chudy dusre mard sedibali me cudane ki kahaniWww.marathichudaistory.baykochi chud moti aahe kay kruhindisex b f videoanatdibali me cudane ki kahanidibali me cudane ki kahaniHotSexyStory of brother-sister in hindiसेक्स कहानी दर्द के बहाने चुत पे तेल लगवाया नये साल पर चुदाईbkos se chodai kahania hindi meगर्मी से बचने के लिये माँ को नाइटी लाकर दी Sex storyअस्पताल की नर्स को कैसे चोदा कहानी पढना हैविधवा बहु ससुर के दोस्त की रखैल हो गयी.sex.kahaniमा बेटासास दामाद भाईबहन ओपेन सेकसी बिडीओसाली के बड़े बड़े बुब्बस दबाके चूदाई कीमाँ ने दिया बेटे को सेक्स ज्ञान किया लण्ड का उद्घाटनdibali me cudane ki kahaniAunty ko kamod pe choda hindi sex stori antarvasnaबेटे से चोदवाया रातभरXxx ma ko ptni bnaya nonvej storyhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaBude aadmi se chut marbane ka majaAntarvasna पति विदेश मै ससूर साथ सोतीhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaSexstori.nursechudaizakas marathi sexstorihotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayadibali me cudane ki kahanihome sex storiesgar me paheli holi in hindisotele sasur ne choda kahanisasur ji ne choda mere sath apni beti ko hindstoryioral sex story in hindima ki poriraat cudai ki storiभैया मुझे चोदलोjijasalisexstorysDiwalikichudaiबहन की चूत के बदले चूतhindisexestoryमेरी सती सावित्री रंडी भाभी ने कई लंडपूनम अपने दौस्त मोहित से चुदीपति ने भेजा चुदाइ के लिए नोकरको